Uncategorized

रैम और स्लॉट के विभिन्न प्रकार | Different Types of Ram and Slots in hindi

Types of ram in hindi – कंप्यूटर में मेमोरी का विकल्प है रैम।  जिसको रैंडम एक्सेस मेमोरी कहते है।  यह पीसी में ऐसा महत्वपूर्ण घटक है जो सिस्टम के परफॉरमेंस को तय करता है।  रैम एक प्रकार की मेमोरी होती है।  जिसे रैंडम सिस्टम से एक्सेस (Random System) किया जा सकता है।  आज कई प्रकार की रैम उपलब्ध है और हर रैम का उपयोग, उपयोगकर्ता अपनी जरुरत के मुताबिक कर सकता है।  आपको अपनी PC  के लिए कितनी Memory की जरुरत है, यह तय करना थोड़ा मुश्किल है।  कंप्यूटर और प्रिंटर्स (Printers)  जैसी कंप्यूटिंग डिवाइसो (Computing Devices) में लगायी जाने वाली सबसे प्रचलित मेमोरी रैम ही है।

कीबोर्ड फ़ंक्शन कुंजियों का विवरण Function keys of keyboard f1-f12

 रैम कितने प्रकार की होती है – types of ram in hindi

मुख्यरूप से रैम दो प्रकार की होती है पहली स्टेटिक रैम  और दूसरी डायनामिक रैम
दोनों प्रकार की रैम एक दुसरे से भिन्न है।  और डेटाओं के लिए दोनों अलग-अलग तकनीक(Technology) का इस्तेमाल करती है।
डायनामिक रैम को प्रति सेकंड (Per Second) आकड़ों को अपने अंदर स्टोर रखने के लिए अपने आप को रिफ्रेश करने की जरुरत पड़ती है जबकि स्टेटिक  रैम को नहीं। 

WHAT IS RAM (RANDOM ACCESS MEMORY) AND TYPES

Static Ram

यह एक तरह की रैंडम एक्सेस मेमोरी।  जो फ्लिप-फ्लॉप का समूह होता है।  Static Ram (Group Of Flip Flop)

स्टेटिक रैम  दो तरह की होती है | Static Ram Types in hindi

Complementary metal oxide semiconductor (CMOS)

CMOS integrated circuits का एक प्रमुख वर्ग है। CMOS तकनीक(Technology) को  माइक्रोप्रोसेसरों, micro controllers, स्टेटिक रैम, और अन्य डिजिटल digital logic circuits के रूप में चिप्स में प्रयोग किया जाता है। CMOS तकनीक का प्रयोग   कई प्रकार के लिए छवि सेंसर, डाटा कन्वर्टर्स(image sensors, data converters) and highly integrated transceivers को कम्युनिकेशन(Communication) के लिए किया जाता है।

Cache Memory in hindi- कैश मेमोरी

कैश मेमोरी को सीपीयू मेमोरी भी कहा जाता है।  क्यूंकि प्रोसेसर रेगुलर रैम के मुकाबले बहुत अधिक तेज़ी से काम करता है।  यह मेमोरी सीपीयू में तथा मदरबोर्ड में होती है।  जिनको L1, L2, L3 Cache Memory के नाम से जाना जाता है।

Dynamic Ram (Combination Of Transistor and Capacitors)

Dynamic Ram in hindi

यह ट्रांसिस्टर्स और कपैसिटर का कॉम्बिनेशन (Combination) से बनता है।  Combination of Transistor and Capacitor

डायनामिक रैम  दो तरह की होती है   | Static Ram Types 

DIPP Types Ram in hindi

यह 8088 से 80286 के मदरबोर्ड में इस्तेमाल होती थी।  यह 16 पिन(Pin) की इस के रूप में होती थी।  जिनको आईसी के बेस(ICs Base)  पर लगाया जाता था।

CARD Types

इस तरह की रैम  का उपयोग  80286 के बाद के मदरबोर्ड से लेकर अबतक प्रयोग किया जा रहा है।  लेकिन समय के साथ इसके अकार और  तकनीक में बदलाव होते रहते है।  इस तरह के रैम को स्लॉट (Ram Slot)में लगाया जाता है।  जो की निम्नलिखित है।

कंप्यूटर क्या होता है What Is Computer ?

SIPP: (Single in line Pin Package)

  •  बिना कट की 8 बिट और 30 पिनों  की  होती है जो 1/4 MB, 1/2 MB, 4 MB तक की होती थी।  इसको 80286 के मदरबोर्ड में काले रंग के SIPP Slot में लगाया जाता था।

SIMM : (Single In Line Memory Module)

  • यह भी बिना कट की 8 बिट और 30 पिनों  की  होती है जो 1/4 MB, 1/2 MB, 4 MB तक की होती थी।  इसको 80286 के मदरबोर्ड(Motherboard) में सफ़ेद रंग के SIMM Slot में लगाया जाता था।

BIG SIMM

  • एक कट की 32  बिट और 72  पिनों  की RAM होती है जो 4 MB, 64 MB तक की होती थी।  इसको 80486 के मदरबोर्ड में सफ़ेद रंग के SIMM Slot  में लगाया जाता था।

SD RAM  (Synchronous Dynamic Random Access Memory)

  •  दो कट की 64  बिट और 168  पिनों  की रैम होती है जो 16 MB, 64 MB, 128MB, 256 MB  तक की RAM होती थी।  इसको P1, P2,P3, P4 के मदरबोर्ड में सफ़ेद रंग के DIMM(Dual In Line Memory Module) Slot  में लगाया जाता है ।

RAMBUS DYNAMIC RAM In Hindi

  •  दो कट की 64   बिट और 184  पिनों  की रैम होती है जो 16 MB, 64 MB, 128MB, 256 MB, 512 MB   तक की RAM होती थी।  इसको  P4 के मदरबोर्ड में किसी भी  रंग के RIMM(Rambus In Line Memory Module) Slot  में लगाया जाता है ।

DDR SD , DDR1 (Double Data Rate Synchronous Dynamic Random Access Memory)

  •  एक कट की 64  बिट और 184 पिनों  की RAM होती है जो 128 MB, 256 MB, 512MB, 1GB तक की होती है ।  इसको P4  के मदरबोर्ड में किसी भी रंग के DIMM Slot  में लगाया जाता है।

DDR 2:

  • एक कट की 64  बिट और 240 पिनों  की RAM होती है जो  256 MB, 512MB, 1GB, 2GB तक या ऊपर की होती है ।  इसको P4  के मदरबोर्ड में किसी भी रंग के DIMM Slot  में लगाया जाता है।

DDR3 :

एक कट की 64  बिट और 340 पिनों  की RAM होती है जो   2GB, 4GB, 8GB या ऊपर  तक की होती है ।  इसको P4, I SERIES  के मदरबोर्ड में किसी भी रंग के DIMM Slot  में लगाया जाता है।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो इसको अंपने Facebook, Twitter ,  Google  Share और Like जरूर करे।  साथ ही नई  जानकारी आसानी से प्राप्त हो Subscribe  करना न भूले।  यदि आप की कोई समस्या या सुझाव है तो हमें कमेंट करके पूँछ सकते है।  आगे भी ढेरो ज्ञानवर्धक जानकारी आपको देता रहूँगा।

About the author

inhindi

हम science, technology और Internet से संबंधित चीजों से संबंधित जानकारी शेयर करते हैं। Facebook, Twitter, Instagram पर हमें Follow करें, ताकि आपको ट्रेंडिंग टॉपिक पर Latest Updates मिलते हैं।

Add Comment

Leave a Comment