तुलसीदास जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित | Tulsidas Ke Dohe in Hindi

1
461

अनुक्रमणिका

तुलसीदास जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित

तुलसीदास के पद हिंदी, rahim के दोहे, kabir के दोहे, तुलसीदास के दोहे अर्थ सहित pdf, तुलसीदास की कविता in hindi, रामायण के दोहे, bihari के दोहे, राम चरित्र मानस के दोहे,
(Tulsidas Ji ke Dohe Hindi) तुलसीदास के दोहे अर्थ सहित

दोहा : राम नाम मनिदीप धरु जीह देहरीं द्वार |
तुलसी भीतर बाहेरहुँ जौं चाहसि उजिआर ||

Doha : Ram Naam ManiDeep Dharu Jeeh Dehree Dwar
Tulsi Bhitar Baherahun Jau Chaahsi Ujiaayar

अर्थ : तुलसीदासजी (Tulsidas) कहते हैं कि हे मनुष्य ,यदि तुम भीतर और बाहर दोनों ओर उजाला चाहते हो तो मुखरूपी द्वार की जीभरुपी देहलीज़ पर राम-नामरूपी मणिदीप को रखो |

नामु राम को कलपतरु कलि कल्यान निवासु |
जो सिमरत भयो भाँग ते तुलसी तुलसीदास ||

Dohe: namu ram ko kalpatru kali kalyan nivasu |
jo simarat bhayo bhang te tulasi tulsidas

अर्थ : राम का नाम कल्पतरु (मनचाहा पदार्थ देनेवाला )और कल्याण का निवास (मुक्ति का घर ) है,जिसको स्मरण करने से भाँग सा (निकृष्ट) तुलसीदास भी तुलसी के समान पवित्र हो गया |

दोहा : तुलसी देखि सुबेषु भूलहिं मूढ़ न चतुर नर |
सुंदर केकिहि पेखु बचन सुधा सम असन अहि ||

Dohe : tulsi dekhi subeshu bhulahin moodh na chatur nar |
sundar kekihi pekhu bachan sudha sam asan ahi ||

अर्थ : गोस्वामीजी कहते हैं कि सुंदर वेष देखकर न केवल मूर्ख अपितु चतुर मनुष्य भी धोखा खा जाते हैं |सुंदर मोर को ही देख लो उसका वचन तो अमृत के समान है लेकिन आहार साँप का है |

दोहा : सूर समर करनी करहिं कहि न जनावहिं आपु |
बिद्यमान रन पाइ रिपु कायर कथहिं प्रतापु ||

Doha : soor samar karni karhin kahi na janavahin aapu |
bidyaman ran pai ripu kayar kathahin pratapu ||

अर्थ : शूरवीर तो युद्ध में शूरवीरता का कार्य करते हैं ,कहकर अपने को नहीं जनाते |शत्रु को युद्ध में उपस्थित पा कर कायर ही अपने प्रताप की डींग मारा करते हैं |

दोहा : तुलसी मीठे बचन ते सुख उपजत चहुँ ओर |
बसीकरन इक मंत्र है परिहरू बचन कठोर ।।

Doha : tulsi meethe bachan te sukh upjat chahun or |
basikaran ik mantra hai pariharu bachan kathor

अर्थ : तुलसीदासजी कहते हैं कि मीठे वचन सब ओर सुख फैलाते हैं |किसी को भी वश में करने का ये एक मन्त्र होते हैं इसलिए मानव को चाहिए कि कठोर वचन छोडकर मीठा बोलने का प्रयास करे |

दोहा : सरनागत कहुँ जे तजहिं निज अनहित अनुमानि |
ते नर पावँर पापमय तिन्हहि बिलोकति हानि ||

Doha : sarnagat kahun je tajhin nij anhet anumani |
te nar pavar papamay tinhahi bilokati haani ||

अर्थ : जो मनुष्य अपने अहित का अनुमान करके शरण में आये हुए का त्याग कर देते हैं वे क्षुद्र और पापमय होते हैं |दरअसल ,उनका तो दर्शन भी उचित नहीं होता |

दोहा : दया धर्म का मूल है पाप मूल अभिमान |
तुलसी दया न छांड़िए ,जब लग घट में प्राण ||

Doha : dya dharm ka mool hai paap mool abhimaan |
tulsi dya na chhandie ,jab lag ghat mein praan ||

अर्थ: गोस्वामी तुलसीदासजी कहते हैं कि मनुष्य को दया कभी नहीं छोड़नी चाहिए क्योंकि दया ही धर्म का मूल है और इसके विपरीत अहंकार समस्त पापों की जड़ होता है|

दोहा : सहज सुहृद गुर स्वामि सिख जो न करइ सिर मानि |
सो पछिताइ अघाइ उर अवसि होइ हित हानि ||
Doha : sahaj suhyad gur swami sikh jo na kari sir maani |
so pachhitai aghai ur avasi hoi hit haani ||

अर्थ : स्वाभाविक ही हित चाहने वाले गुरु और स्वामी की सीख को जो सिर चढ़ाकर नहीं मानता ,वह हृदय में खूब पछताता है और उसके हित की हानि अवश्य होती है |

दोहा : मुखिया मुखु सो चाहिऐ खान पान कहुँ एक |
पालइ पोषइ सकल अंग तुलसी सहित बिबेक ||

Doha : mukhiya mukhu so chaahiai khaan paan kahun ek |
paali poshi sakal ang tulasee sahit bibek ||

अर्थ : तुलसीदास जी कहते हैं कि मुखिया मुख के समान होना चाहिए जो खाने-पीने को तो अकेला है, लेकिन विवेकपूर्वक सब अंगों का पालन-पोषण करता है |

दोहा : सचिव बैद गुरु तीनि जौं प्रिय बोलहिं भय आस |
राज धर्म तन तीनि कर होइ बेगिहीं नास ||

(Dohe:) Sachiv Baid Guru Teeni Jaun Priy Bolahin Bhay Aas |
Raaj Dharm Tan Teeni Kar Hoi Begiheen Naas ||

अर्थ : गोस्वामीजी कहते हैं कि मंत्री, वैद्य और गुरु —ये तीन यदि भय या लाभ की आशा से (हित की बात न कहकर ) प्रिय बोलते हैं तो (क्रमशः ) राज्य,शरीर एवं धर्म – इन तीन का शीघ्र ही नाश हो जाता है

Rahim ke Dohe रहीम दास जी के दोहे
Sant Kabir ke Dohe संत कबीर दास जी के दोहे

ये पढ़ना ना भूलें:

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here