Hindi Status

तुलसीदास जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित | Tulsidas Ke Dohe in Hindi

तुलसीदास जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित

दोहा :

राम नाम मनिदीप धरु जीह देहरीं द्वार |
तुलसी भीतर बाहेरहुँ जौं चाहसि उजिआर ||

Doha :

Ram Naam ManiDeep Dharu Jeeh Dehree Dwar
Tulsi Bhitar Baherahun Jau Chaahsi Ujiaayar

अर्थ :

तुलसीदासजी (Tulsidas) कहते हैं कि हे मनुष्य ,यदि तुम भीतर और बाहर दोनों ओर उजाला चाहते हो तो मुखरूपी द्वार की जीभरुपी देहलीज़ पर राम-नामरूपी मणिदीप को रखो |

नामु राम को कलपतरु कलि कल्यान निवासु |
जो सिमरत भयो भाँग ते तुलसी तुलसीदास ||

Dohe:

namu ram ko kalpatru kali kalyan nivasu |
jo simarat bhayo bhang te tulasi tulsidas

अर्थ :

राम का नाम कल्पतरु (मनचाहा पदार्थ देनेवाला )और कल्याण का निवास (मुक्ति का घर ) है,जिसको स्मरण करने से भाँग सा (निकृष्ट) तुलसीदास भी तुलसी के समान पवित्र हो गया |

दोहा : 

तुलसी देखि सुबेषु भूलहिं मूढ़ न चतुर नर |
सुंदर केकिहि पेखु बचन सुधा सम असन अहि ||

Dohe :

tulsi dekhi subeshu bhulahin moodh na chatur nar |
sundar kekihi pekhu bachan sudha sam asan ahi ||

अर्थ :

गोस्वामीजी कहते हैं कि सुंदर वेष देखकर न केवल मूर्ख अपितु चतुर मनुष्य भी धोखा खा जाते हैं |सुंदर मोर को ही देख लो उसका वचन तो अमृत के समान है लेकिन आहार साँप का है |

दोहा : 

सूर समर करनी करहिं कहि न जनावहिं आपु |
बिद्यमान रन पाइ रिपु कायर कथहिं प्रतापु ||

Doha : 

soor samar karni karhin kahi na janavahin aapu |
bidyaman ran pai ripu kayar kathahin pratapu ||

अर्थ :

शूरवीर तो युद्ध में शूरवीरता का कार्य करते हैं ,कहकर अपने को नहीं जनाते |शत्रु को युद्ध में उपस्थित पा कर कायर ही अपने प्रताप की डींग मारा करते हैं |

दोहा : 

तुलसी मीठे बचन ते सुख उपजत चहुँ ओर |
बसीकरन इक मंत्र है परिहरू बचन कठोर ।।

Doha : 

tulsi meethe bachan te sukh upjat chahun or |
basikaran ik mantra hai pariharu bachan kathor

अर्थ :

तुलसीदासजी कहते हैं कि मीठे वचन सब ओर सुख फैलाते हैं |किसी को भी वश में करने का ये एक मन्त्र होते हैं इसलिए मानव को चाहिए कि कठोर वचन छोडकर मीठा बोलने का प्रयास करे |

दोहा : 

सरनागत कहुँ जे तजहिं निज अनहित अनुमानि |
ते नर पावँर पापमय तिन्हहि बिलोकति हानि ||

Doha :

 sarnagat kahun je tajhin nij anhet anumani |
te nar pavar papamay tinhahi bilokati haani ||

अर्थ :

जो मनुष्य अपने अहित का अनुमान करके शरण में आये हुए का त्याग कर देते हैं वे क्षुद्र और पापमय होते हैं |दरअसल ,उनका तो दर्शन भी उचित नहीं होता |

दोहा : 

दया धर्म का मूल है पाप मूल अभिमान |
तुलसी दया न छांड़िए ,जब लग घट में प्राण ||

Doha : 

dya dharm ka mool hai paap mool abhimaan |
tulsi dya na chhandie ,jab lag ghat mein praan ||

अर्थ:

गोस्वामी तुलसीदासजी कहते हैं कि मनुष्य को दया कभी नहीं छोड़नी चाहिए क्योंकि दया ही धर्म का मूल है और इसके विपरीत अहंकार समस्त पापों की जड़ होता है|

दोहा :

 सहज सुहृद गुर स्वामि सिख जो न करइ सिर मानि |
सो पछिताइ अघाइ उर अवसि होइ हित हानि ||

Doha : 

sahaj suhyad gur swami sikh jo na kari sir maani |
so pachhitai aghai ur avasi hoi hit haani ||

अर्थ :

स्वाभाविक ही हित चाहने वाले गुरु और स्वामी की सीख को जो सिर चढ़ाकर नहीं मानता ,वह हृदय में खूब पछताता है और उसके हित की हानि अवश्य होती है |

दोहा : 

मुखिया मुखु सो चाहिऐ खान पान कहुँ एक |
पालइ पोषइ सकल अंग तुलसी सहित बिबेक ||

Doha : 

mukhiya mukhu so chaahiai khaan paan kahun ek |
paali poshi sakal ang tulasee sahit bibek ||

अर्थ :

तुलसीदास जी कहते हैं कि मुखिया मुख के समान होना चाहिए जो खाने-पीने को तो अकेला है, लेकिन विवेकपूर्वक सब अंगों का पालन-पोषण करता है |

दोहा : 

सचिव बैद गुरु तीनि जौं प्रिय बोलहिं भय आस |
राज धर्म तन तीनि कर होइ बेगिहीं नास ||

(Dohe:)

Sachiv Baid Guru Teeni Jaun Priy Bolahin Bhay Aas |
Raaj Dharm Tan Teeni Kar Hoi Begiheen Naas ||

अर्थ :

गोस्वामीजी कहते हैं कि मंत्री, वैद्य और गुरु —ये तीन यदि भय या लाभ की आशा से (हित की बात न कहकर ) प्रिय बोलते हैं तो (क्रमशः ) राज्य,शरीर एवं धर्म – इन तीन का शीघ्र ही नाश हो जाता है

Rahim ke Dohe रहीम दास जी के दोहे
Sant Kabir ke Dohe संत कबीर दास जी के दोहे

ये पढ़ना ना भूलें:

Leave a Comment

1 Comment