Stone

जानिए टाइगर स्टोन का प्रभाव और कब/कैसे और क्यों

‘टाइगर रत्न’ सबसे अधिक प्रभावी तथा बहूपयोगी एवं शीघ्र फल प्रदान करने वाला स्टोन है। इसे टाइगर आई भी कहते हैं। इस रत्न पर टाइगर के समान पीली एवं काली धारियां होने के कारण इसे ‘टाइगर स्टोन’ कहते हैं। यह प्रभाव में भी टाइगर (चीता) के समान लक्षण उत्पन्न करता है। इसे धारण करने से तुरंत लाभ हो जाता है।  जो व्यक्ति आत्मविश्वास की कमी के कारण बार-बार व्यापार एवं अन्य कार्यों में असफल होता हो, दुखी जीवन व्यतीत कर रहा हो, उस व्यक्ति को टाइगर स्टोन गजब का आत्मविश्वास प्रदान करता है। इसे धारण करने से पूर्ण सफलता मिलती है तथा व्यक्ति साहसी एवं पुरुषार्थी बन जाता है। शेर जैसा आत्मबल और साहस भी यह रत्न प्रदान करने में सक्षम है। डरपोक, उदासीन व्यक्तियों का यह स्टोन अदृश्य साथी माना जाता है। ऐसे व्यक्तियों में टाइगर रत्न पहनने से जागरूकता उत्पन्न होती है।
इसे रूबी का बहुत निम्‍न श्रेणी का उपरत्‍न मानते हैं। देखने में यह चमकदार होता है जिसका रंग कहीं हल्‍का भूरा होता है तो कहीं गहरा भूरा (पीले रंग के शेड्स)। जैसा की नाम से पता चलता है ये चीते की आंख के समान होता है। यह रत्‍न हीलिंग थेरेपी में इस्‍तेमाल होता है साथ ही ज्‍वेलरी स्‍टोन की तरह भी इसका इस्‍तेमाल किया जाता है।

क्‍यों पहने टाइगर्स आई:

रूबी का निम्‍न श्रेणी का उपरत्‍न होने के कारण सूर्य के विपरीत प्रभावों से बचने और अच्‍छे फल प्राप्‍त करने के लिए टाइगर्स आई पहनते हैं। यह दाम में रूबी से बहुत सस्‍ता होता है इसलिए इसका इस्‍तेमाल विषम आर्थिक स्थिति में सूर्य के उच्‍च फल को प्राप्‍त करने के लिए किया जाता है।

पहनने से लाभ:

आत्‍म सम्‍मान और चेतना के विकास के लिए इसको पहना जाता है। यह अध्‍यात्‍म से जोड़ता है। सहनशीलता और धैर्य की भावना उत्‍पन्‍न करता है। ये रत्‍न अगर त्‍वचा से स्‍पर्श करता है तो व्‍यक्‍ति को भीतर से उल्‍लास से भरता है। इसको पहनने वाले व्‍यक्ति आंतरिक शांति का महत्‍व समझते हैं। ये पहनने वाले की सेहत को भी इम्‍प्रूव करता है।
1. जन्मकुंडली में यदि किसी घर के शुभ फल आपको प्राप्त नहीं हो रहे हैं या यदि कोई ग्रह सोया हुआ है तो उस ग्रह के स्वामी ग्रह को जगाना अनिवार्य होता है, जिससे उस घर का शुभ फल मिलता है।
2. जन्मपत्रिका में कुयोग बन रहे हों तो उन योगों के कुप्रभावों को कम करने के लिए भी टाइगर रत्न धारण करना चाहिए।
3. यदि आप निरंतर कर्ज में डूबते जा रहे हों तो कर्ज मुक्ति के लिए शुक्रवार के दिन सिद्ध किया हुआ स्टोन गले में लॉकेट के रूप में श्वेत धागे में धारण करें।
4. बार-बार वाहन दुर्घटना में चोट लग जाती है तो तर्जनी उंगली में टाइगर स्टोन प्राण प्रतिष्ठा कराकर मंगलवार के दिन धारण करें।
5. घर में जिन बच्चों व व्यक्तियों को बार-बार नजर लगती है, मानसिक तनाव रहता है तो उन्हें टाइगर स्टोन गले में धारण करना चाहिए।
6. शत्रुओं से पीड़ित व्यक्ति मंगलवार के दिन टाइगर रत्न धारण करें।
7. कार्य स्थल पर व अन्य जगहों से मान, प्रतिष्ठा, प्रसिद्धि प्राप्त करने व यश, कीर्ति की पताका फहराने के इच्छुक टाइगर स्टोन शुक्ल पक्ष की अष्टमी को तर्जनी उंगली में या अनामिका उंगुली में धारण करें।
8.  जो व्यक्ति अपनी पत्नी से घबराता हो या कलह से डरता हो एवं जिसकी पत्नी अधिक बोलती है, समाज में प्रतिष्ठा उसी के कारण कम हो तो टाइगर रत्न तर्जनी उंगली में पूर्णिमा के दिन धारण करें।
9. जिसका व्यापार घाटे में जा रहा हो, सरकारी परेशानियां बढ़ती ही जा रही हों, वर्तमान में घाटा आ रहा हो तो टाइगर स्टोन शुक्ल पक्ष में बुधवार के दिन सूर्य की अनामिका उंगली में धारण करना चाहिए।
10. जिस व्यक्ति का विवाह नहीं हो रहा हो, सगाई भी नहीं होती हो, तो उस जातक को टाइगर रत्न ऋषि पंचमी को तर्जनी उंगली में धारण करना चाहिए। विवाह शीघ्र सुयोग्य लड़की से होगा।
11. जिस लड़की का विवाह नहीं हो रहा हो, सगाई छूट जाती हो या सगाई हो ही नहीं रही हो तो उस लड़की को नाग पंचमी को प्रात: नाग के दर्शन कर यह टाइगर स्टोन धारण करना चाहिए।
12. जिन व्यक्तियों को सर्विस में नुक्सान हो रहा हो या कार्यस्थल में परेशानी हो तो टाइगर रत्न रविवार को दिन में धारण करने से लाभ होगा।
13. जिन व्यक्तियों के संतान होती है, वह मर जाती है तो दोनों पति-पत्नी बराबर वजन का टाइगर स्टोन प्राण प्रतिष्ठा कराकर शुक्ल पक्ष में जब स्त्री मासिक धर्म में हो तब एक साथ धारण करें। संतान सुख मिल जाएगा, गर्भपात होता है तो तुरंत लाभ होगा।

14.  जिस घर में लड़ाई-झगड़ा अधिक होता हो तथा सुख-शांति न हो विशेष परेशानी हो, छोटी-छोटी बातों पर क्लेश हो जाता है तो उस परिवार का मुखिया टाइगर स्टोन सोमवार के दिन प्रात: आम के पत्ते के रस का अभिषेक कर धारण करे। टाइगर स्टोन सिद्ध व प्राण प्रतिष्ठित होना चाहिए।

जानिए सोया ग्रह/धारण करने का वार/धारण करने की उंगली

  •  सूर्य ग्रह/रविवार के दिन/अनामिका उंगली में।
  • चंद्रमा/सोमवार के दिन/अनामिका उंगली में।
  • मंगल ग्रह/मंगलवार के दिन/तर्जनी उंगली में।
  • बुध ग्रह/बुधवार के दिन/कनिष्ठा उंगली में।
  •  गुरु ग्रह/वीरवार के दिन/तर्जनी उंगली में।
  •  शुक्र ग्रह/शुक्रवार के दिन/गले में धारण करें।
  • शनि ग्रह/शनिवार के दिन/मध्यमा उंगली में।
  • राहू ग्रह/बुधवार के दिन/दाएं हाथ में।
  •  केतु ग्रह/बुधवार के दिन/बाएं हाथ में।

कीमत:

भारतीय रत्‍न बाजार में टाइगर आई की कीमत 50 रू. प्रति कैरेट से 200 रू प्रति कैरेट के बीच में ही होती है।

खरीदने के दौरान ध्‍यान देने योग्‍य बातें:

किसी भी रत्‍न को खरीदने से पहले उसकी शुद्धता की जांच अवश्‍य कर लेनी चाहिए। रत्‍नों को अपने जानने वाले डीलर से लें या फिर पहले उनके काम को अच्‍छी तरह से जांच ले फिर वहां से रत्‍नों की खरीदारी करें। रत्‍नों को अगर ज्‍योतिषीय रेमिडी के लिए पहनना हो तो रत्‍न सस्‍ता हो या महंगा उसकी शुद्धता के विषय में किसी अच्‍छी लैब का सर्टिफिकेट अवश्‍य देंखे और खुद भी इंटरनेट के माध्‍यम से और विशेषज्ञों से इसके विषय में जानकारी ले लें।

गुणवत्‍ता:

दूसरे रत्‍नों की तरह टाइगर आई की गुणवत्‍ता भी तीन ‘सी’ ‘कट’, ‘क्‍लेयरिटी’ और ‘कलर’ पर डिपेंड करती है। रंग जितना साफ और स्‍पष्‍टता जितनी ज्‍यादी होती है, यह रत्‍न उतना ही अच्‍छा माना जाता है।

कहां से प्राप्‍त करें:

रत्‍नों और जेम स्‍टोन के बढ़ते चलन के कारण हर ज्‍वेलर के पास यह रत्‍न मिल जाएगा लेकिन यह जरूरी नहीं हो कि वह प्राकृतिक हो क्‍योंकि लगभग सभी जेमस्‍टोन के सेन्‍थेटिक रूप तैयार किए जा सके हैं।
इसके अलावा ऑन लाइन भी इस रत्‍न को या उससे बनी अंगूठी, ब्रसलेट आदि को खरीदा जा सकता है। यहां इस बात का ध्‍यान रखें कि रत्‍न से संबंधित सर्टिफिकेट अवश्‍य देख लें।

Tiger Eye Stone Price Online

Products from Amazon.in

    Gemstones
    नीलम रत्‍न | लहसुनिया रत्‍न पन्ना रत्‍न | गोमेद रत्‍न | मोती रत्‍न | मूंगा रत्‍न | माणिक रत्‍न | सफेद पुखराज रत्‍न पुखराज रत्‍न | हकिक रत्‍न | कठेला रत्‍न | ऐक्वमरीन रत्‍न सुनेहला रत्‍न | ग्रीन तुरमुली रत्‍न लाजवर्त रत्‍न | दाना फिरंग रत्‍न | मून्स्टोन रत्‍न | ऑनिक्स रत्‍न | ओपल रत्‍न | पेरीडोट रत्‍न | सनस्टोन रत्‍न | तंजानाइट रत्‍न | टाइगर आई रत्‍न | फिरोजा रत्‍न

    About the author

    inhindi

    हम science, technology और Internet से संबंधित चीजों से संबंधित जानकारी शेयर करते हैं। Facebook, Twitter, Instagram पर हमें Follow करें, ताकि आपको ट्रेंडिंग टॉपिक पर Latest Updates मिलते हैं।

    3 Comments

    Leave a Comment