Tag Archives: Kabir

तुलसीदास जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित | Tulsidas Ke Dohe in Hindi

तुलसीदास जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित दोहा : राम नाम मनिदीप धरु जीह देहरीं द्वार | तुलसी भीतर बाहेरहुँ जौं चाहसि उजिआर || Doha : Ram Naam ManiDeep Dharu Jeeh Dehree Dwar Tulsi Bhitar Baherahun Jau Chaahsi Ujiaayar अर्थ : तुलसीदासजी (Tulsidas) कहते हैं कि हे मनुष्य ,यदि तुम …

Read More »