induban mandir mela

एक मंदिर और रहस्यमयी फल जो संतान प्राप्ति की देता है गारंटी

संतान का सुख हर शादी शुदा जोड़ा पाना चाहता है। लेकिन जब उसकी यह इच्छा पूरी नहीं होती तो वो परेशान होकर संतान प्राप्ति के लिए हर संभव उपाय करने में जुट जाता है। संतान पाने के लिए हर छोटी सी बात को भी महत्व देता है। डॉक्टरो से लेकर टोटको तक का सहारा लेता है। संतान प्राप्ति के इच्छुक लोगो के लिए शायद यह जानकारी काम की हो। आज इस लेख में आपको बताने जा रहे है एक ऐसे अनोखे और चमत्कारी मंदिर के बारे में। जिसके बारे में कहा जाता है की यह मंदिर संतान होने की गारंटी देता है। चलिए आपको बताते है इस मंदिर के बारे में कुछ रहस्मयी बाते।

चमत्कारी इंदुम्बन मंदिर कहाँ है

यह इंदुम्बन चमत्कारी मंदिर (Indumbon temple) दक्षिण भारत में तमिलनाडु के विल्लुपुरम में स्थित है। यहा निसंतान दम्पति मंदिर के दर्शन करके संतान सुख का आशीर्वाद पाते है।

प्रसाद के होती है संतान सुख की प्राप्ति

जो लोग यहाँ आते है। वो अपने साथ फल लेकर आते है। और उसे मंदिर में भगवान् को प्रसाद के रूप में चढ़ाते है और उसके बदले उन्हें प्रसाद प्राप्त होता है। जिसे खाने के बाद दम्पति को बच्चे का सुख मिलता है। इसके इसके अलावा मंदिर के पुजारी का कहना है की यदि सच्चे मन से अपनी इच्छा इस मंदिर में रखने से बिछड़े लोग भी मिल जाते है। और भटके लोग अपने रास्ते पर आ जाते है।

 मंदिर में है एक रहस्यमयी फल

निम्बू इस मंदिर का विशेष प्रसाद है। इसके पीछे क्या कहानी है कोई नहीं जानता। लेकिन लोगो का कहना है की चूँकि निम्बू एक रसदार और जल्दी ख़राब न होने वाला फल है। इसलिए इसको लोग भेट स्वरुप मंदिर में चढ़ाते है जो बाद में प्रसाद के रूप में वह आये भक्तो को वितरित कर दिया जाता है। जिसे खा के उनकी मन की इच्छा पूर्ण हो जाती है।

मंदिर में नौ दिनों का मेला

इस मंदिर में एक मेला लगता है जो नौ दिनों तक चलता है। साथ ही नीम्बुओं की नौ दिन पूजा की जाती है। बाद में उन नीम्बुओं की बोली लगाई जाती है। जिसे संतान पाने की लालसा होती है वो इन नीबुओं की बोली लगते है। इन नीम्बुओं के बारे में कहा जाता है की जो भी इस निम्बू का सव्वं कर लेता है। उनके जीवन में बच्चे की किलकारी जरूर गूंजती है। और संतान सुख को प्राप्त करता है।

Read more :

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.