हिन्दी निबंध - Essay

भारत की सबसे ऊंची मीनार के नाम से प्रसिद्ध क़ुतुब मीनार

भारत की सबसे ऊंची मीनार के नाम से प्रसिद्ध क़ुतुब मीनार 238 फीट ऊंची बहुत प्राचीन एतिहासिक इमारत है। यह राजधानी दिल्ली में रेलवे स्टेशन से 11 मील दूर दक्षिण में महरौली के पास स्थित है।

कुतुब मीनार  इमारत की मंजिलें

प्राचीनकाल में इस इमारत की सात मंजिलें थी। जिनमें से अब केवल 5 मंजिले शेष है। इन पांच मंजिल तक पहुंचने के लिए 378 सीढ़ियों को चलना पड़ता है। पांचवी मंजिल से दिल्ली का शहरी दृश्य भली-भांति देखा जा सकता है।

kutub minar

kutub minar history nibandh

क़ुतुब मीनार किसने बनवाया था

कुतुब मीनार का निर्माण गुलाम वंश के शासक कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा 12 वीं सताब्दी में प्रारंभ हुआ। परंतु यह मीनार उस के शासनकाल में पूरी नहीं हो सकी जिसकी वजह से इस के उत्तराधिकारी इल्तुतमिश ने कुतुब मीनार का निर्माण पूरा किया था ।

कुतुब मीनार विशेषता :

कुतुब मीनार लाल पत्थरों से बनी है। जिनमें लगाए पत्थरों पर कुरान की आयतें तथा मोहम्मद गौरी और कुतुबुद्दीन की प्रशंसा की गई है। कुतुबमीनार के आस-पास पुराने समय के खंडर चारों ओर फैले हुए हैं। कुतुबमीनार तथा इन खंडहरों को देखने के लिए हजारों दर्शक देश विदेश से सैर-सपाटे को यहां आते हैं। कुतुब मीनार के पास एक लोहे का स्तंभ है भी स्थित है। जिसकी विदेशी बहुत प्रशंसा करते हैं। इसकी विशेषता यह है कि अभी तक इस लोहे के स्तंभ में जंग नहीं लगा। इसे भीम की किल भी कहा जाता है कुतुबमीनार प्राचीन एतिहासिक इमारत होने के कारण इतिहासकारों एवं पुरातत्व विभाग के लोगों के लिए भी खासा आकर्षण का केंद्र है। वह यहां आते हैं और इस इमारत की निर्माण कला, पत्थरो की नक्कासी और तराश को देख कर उस काल की सभ्यता संस्कृति और उस समय की राजव्यवस्था के बारे में नई नई जानकारी प्राप्त करते हैं इस तरह हम कहते हैं कुतुबमीनार हमारे देश के लिए एक ऐतिहासिक धरोहर है।
Search Tags : qutub minar history in short | Kutub minar facts | location of qutub minar | क़ुतुब मीनार का इतिहास और रोचक तथ्य | कुतुब मीनार पर निबंध | क़ुतुब मीनार का इतिहास | क़ुतुब मीनार का फोटो | Kutub Minar in hindi

Sending
User Review
0 (0 votes)

Leave a Comment