गर्भावस्था

प्रेगनेंसी (गर्भावस्था) के 10 प्रमुख लक्षण – Pregnancy ke lakshan in first week in hindi

प्रेगनेंसी (गर्भावस्था) के शुरूआती लक्षण – The early symptoms of pregnancy in Hindi

आप प्रेग्नेंट है या नहीं यह जानना आज के समय में कोई मुश्किल काम नहीं है। बाजार में प्रेगनेंसी टेस्ट के लिए बहुत से उपकरण मिलते है। जिसके द्वारा आप आसानी से पता कर सकते है की आप प्रेग्नेंट है या नहीं। लेकिन बात करे की बिना किसी उपकरण की सहायता से यह कैसे जाने की आप गर्भवती है या नहीं तो आप नीचे दिए गए तरीकों के द्वारा पता कर सकती है। क्यूंकि गर्भधारण होते ही शारीर में बहुत से बदलाव होने लगते है। और उन्ही लक्षण को देख कर यह जानने में की आप गर्भवती है या नहीं आसानी होती है। starting pregnancy symptoms in hindi

गर्भावस्था के प्रारंभिक लक्षण – The early symptoms of pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षण पीरियड रूक जाता है – Missed period is symptoms of pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षण – Symptoms of pregnancy in Hindi
जब ब्लास्टोसिस्ट गर्भाशय में दाखिल हो जाता है तब महिला का शरीर ह्यूमन कोरिऑनिक गोनाडोट्रॉपिन (एचसीजी) उत्पन्न करने लगता है। यह हार्मोन शरीर में गर्भ को संभाले रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह अंडाशय को हर महीने परिपक्व अंडे को टूटने से रोकता है जिसकी वजह से महिला को पीरियड होना बंद हो जाता है। अगर आपको चार हफ्तों तक पीरियड नहीं होता है तो प्रेगनेंसी टेस्ट करके यह कन्फर्म कर लेना चाहिए कि आप प्रेगनेंट हैं या नहीं। पीरियड न आने के आठ दिन बाद घर पर ही जांच कर एचसीजी का पता लगाया जा सकता है। प्रेगनेंसी टेस्ट में यदि आपके यूरीन में एचसीजी लेवल का पता चलता है तो इसका मतलब है कि आप प्रेगनेंट हैं।

गर्भावस्था में स्त्री के स्तनों में दर्द – changes in breasts size symptoms of pregnancy in Hindi

यह बहुत ही सामान्य लक्षण होता है है गर्भावस्था में स्त्री के स्तनों में दर्द और भारीपन आ जाता है साथ ही स्तनों के अकार में भी परिवर्तन होने लगता है। वो इसलिए होता है क्यूंकिगर्भ धारण करने के साथ ही शरीर में हॉर्मोनल बदलाव होना शुरू हो जाते हैं. इससे ब्रेस्ट में सूजन आ जाती है या फिर भारीपन आ जाता है। 

 गर्भ धारण करने पर निपल के रंग में बदलाव का होना

क्या आपको आपके निपल कुछ अलग दिख रहे हैं? गर्भावस्था के दौरान होने वाले हॉमोर्नल चेंज से melanocytes प्रभावित होती हैं. यानी इसका प्रभाव उन कोशिकाओं पर पड़ता है जो निपल के रंग के लिए उत्तरदायी होती हैं. गर्भ धारण करने पर निपल का रंग गहरा हो जाता है.

गर्भावस्था में मितली आना और उल्टी होने जैसा लगना

गर्भावस्था में दिन की शुरुआत काफी बोझिल होती है. सुबह उठकर कमजोरी लगती है और मितली आती है. कई बार कुछ खाने पर उल्टी जैसा महसूस होने लगता है.

पेट ख़राब होना या बार बार शौच जाना

क्या आप अब पहले की तुलना में ज्यादा बार टॉयलेट जाने लगी हैं? ऐसे समय में किडनी ज्यादा सक्रिय हो जाती हैं, जिससे बार-बार टॉयलेट जाना पड़ता है.

भूख जल्दी जल्दी लगना गर्भवती होने का एक प्रमुख लक्षण

बार बार भूख लगना भी गर्भवती होने का एक प्रमुख लक्षण है. गर्भवती महिला में किसी विशेष चीज के प्रति आकर्षण बढ़ जाता है और हर वक्त वही खाने का दिल करने लगता है. कई बार ऐसा भी होता है कि इस दौरान महिला की डेली डाइट अचानक से बढ़ जाती है.

 गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में सिर दर्द होना या चक्कर आना

खून का दौरा बढ़ जाने की वजह से सिर में दर्द रहने लगता है. ये गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में से एक प्रमुख लक्षण है. पर धीरे-धीरे ये खुद ही ठीक हो जाता है.

पेट में कब्ज की परेशानी होना

हॉर्मोनल चेंज होने की वजह से पाचन क्रिया पर भी असर पड़ता है. पाचन क्रिया थोड़ी धीमी हो जाती है. ऐसे में महिला को अक्सर कब्ज की शिकायत रहने लगती है.

गर्भवती होने पर शरीर का तापमान और मिजाज

गर्भवती होने पर शरीर का तापमान अक्सर सामान्य तापमान से अधिक बना रहता है. जब महिला गर्भवती होती है। तो उसमें बहुत सारे परिवर्तन होते है। जैसे कभी ख़ुशी तो कभी चिड़चिड़ाहट।

3 Comments

Leave a Comment