जानिये इष्टदेव की आरती कैसे करें | aarti karne ki vidhi in hindi

486

सिर्फ ₹99/mo में होस्टिंग खरीदें!

इष्टदेव की आरती कैसे करें – उपासक के हृदय में भक्ति दीप को तेजोमय बनाने का व देवता से कृपाशीर्वाद ग्रहण करने का सुलभ शुभावसर है `आरती’ । संतों द्वारा रचित आरतियों को गाने से ये उद्देश्य नि:संशय सफल होते हैं । कोई कृति हमारे अंत:करण से तब तब होती है, जब उसका महत्त्व हमारे मन पर अंकित हो ।

इष्टदेव की आरती कैसे करें – aarti karne ki vidhi in hindi

ज्योति,थाली या दीपक

1. आरती करते हुए उसमें शामिल व्यक्तियों के मन में भावना होती है कि पांचों प्राणों यानी व्यक्ति पूरे अस्तित्व और चेतना से इैश्वर की आराधना कर रहा है। घी की ज्योति जीव के आत्मा की थाली या दीपक को इष्टदेव के सामने निश्चित संख्या में गोलाकार घुमाया जाता है। घुमाने की प्रक्रिया से वृत इस तरह रेंखांकित हो कि ओम की आकृति बन जाए।

आरती में जल से भरे कलश

2. आरती में जल से भरे कलश, नारियल, तांबे के सिक्के नदियों के जल अर्थात प्रकृति के सभी उपहारों का प्रयोग होता है।
आरती में जिस थाली का प्रयोग किया जाता है,

दीपक

3. वह प्रायः पीतल, तांबा, चांदी या सोने की हो सकती है। इसमें एक दीपक धातु का, गीली मिट्टी का या गुथे हुए आटे का होता है। यह दीपक गोल या पंचमुखी, सप्तमुखी अधिक विषम संख्या मुखी हो सकता है। इसे तेल या शु़द्ध घी के जरिए रूई की बत्ती से जलाया गया होता है।

तेल का प्रयोग

4. प्रायः तेल का प्रयोग रक्षा दीपकों में किया जाता है। आरती दीपकों में घी का उपयोग कर सकते हैं। बत्ती के स्थान पर कपूर का भी प्रयोग कर सकते हैं। आरती में जल से भरे कलश, नारियल, मुद्रा, तांबे के सिक्के के अलावा नदियों के जल का उपयोग किया जाता है।

तुलसी का प्रयोग

5. तांबे में सात्विक लहरें उत्पन्न करने की क्षमता अन्य धातुओं की अपेक्षा अधिक होती है। कलश में उठती लहरें वातावरण में प्रवेश कर जाती हैं। कलश में पैसा डालना भी प्रतीक माना जाता है। आरती में अनिवार्य रूप से तुलसी का प्रयोग भी होता रहा है।

इष्टदेव की आरती कैसे करें – aarti karne ki vidhi in hindi

इन्हे भी पढ़े।

  • महामृत्युजंय मंत्र जाप से मिलती है, मृत्यु के भय से मुक्ति
  • शिव और शक्ति के समभाव से बना प्रकृति का संतुलन
  • छिपकली से जुड़े कुछ शकुन – अपशकुन
  • छींक विचार : शकुन शास्त्र- जानिए छींक से जुड़े शकुन-अपशकुन
  • दिशा शूल निवारण – काल राहु, योगिनी विचार
  • मृत्यु सूचक स्वप्न – मृत्यु का संकेत देने वाले सपने
  • शीघ्र विवाह के उपाय और विवाह संस्कार में आ रही परेशानी को दूर करने के ज्योतिष उपाय
  • अगर सुबह दिखे ये सपने तो समझ लीजिए आज लॉटरी लगेगी
  • रसोई के वास्तु दोष Rasoi ke Vastu Dosh or Upay

Tags : इष्ट का अर्थ | इष्ट देवी | इष्ट देवता इन हिंदी | अनुकूल देवता |ईष्ट | कुल देवता | कुलदेवता मंत्र | इष्ट का विलोम 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.