Breaking News
Home / हिन्दी कविता - Poem / मैं क्यों बड़ी हो गयी Mai kyun badi ho gayi

मैं क्यों बड़ी हो गयी Mai kyun badi ho gayi

मैं क्यों बड़ी हो गयी Mai kyun badi ho gayi

एक दिन पूछा पापा से
मैं छोटी से एकाएक यों बड़ी हो गयी ?
आपके आंगन की कली- नाजों में पली
मां की ममता में पगी-
भैया के रेशमी रक्षासूत्र में बंधी-
दूसरों ने शरारतें कीं भी- तो उन्हें दी रिहाई
पर मुझे ही क्यों दी परिवार से बिदाई ?
तुम्हारी नजर में बड़ी हो गयी
क्या इसलिए बोझ हो गायी ?
आंसुओं को आँखों में छुपाएं- पापा बोले प्यार से सुन मेरी पयरी गुड़िया
तू आज भी है मेरी खुशियों की वही मुनिया
हर बेटी लक्ष्मी रूप में घर आती हैं
सीता रूप में राम संग व्याहती है
दुल्हन बन जब अपने घर जाती है
मां के रूप में यशोदा की ममता बरसाती है
संकट पड़े- तो विघविनाशिनी दुर्गा बन जाती है
बेटियां एक ही जीवन में कई रूप दिखाती है
इसलिए वे जल्दी बड़ी हो जाती है
सच- बहुत जल्दी बड़ी हो जाती है  (Pinki Kanaujiya)


यह पोस्ट आपको कैसी लगी निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें बताएं, और अगर कोई सवाल पूछना हो या सुझाव देना हो तो आप अपना मेसेज निचे लिख दें . अगर आपको पोस्ट अच्छे लगी हो तो इसे शेयर और करना न भूले। आप हमसे  Facebook, +google, Instagram, twitter, Pinterest और पर भी जुड़ सकते है ताकि आपको नयी पोस्ट की जानकारी आसानी से मिल सके। हमारे Youtube channel को Subscribe जरूर करे।


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *