श्री कृष्ण जन्माष्टमी | Shri Krishna Janmashtami

श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व भगवान श्रीकृष्ण की स्मृति में उनके जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। यह त्योहार भादो महीने में कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन मनाया जाता है।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार 5000 वर्ष पूर्व इस दिन भगवान श्री कृष्ण का रात्रि के समय उनके मामा कंस की जेल की काल कोठरी में जन्म हुआ था। इस पर्व के दिन श्रद्धालुजन व्रत रखते हैं। और रात्रि को भगवान के मंदिर में जा कर पूजा और हरी कीर्तन करते हैं। मध्य रात्रि के समय कृष्ण के जन्म के उपलक्ष में श्रद्धालुओं द्वारा मंदिरों में शंख घंटे घड़ियाल बजा का हर्ष प्रकट किया जाता है। तथा प्रसाद वितरित किया जाता है। इस प्रसाद को खाकर भक्तजन अपना व्रत तोड़ते हैं।
श्री Krishna Janmashtami

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की सुंदरता

जन्माष्टमी के दिन ग्राम व नगरों में अनेक स्थानों पर श्री कृष्ण की सुंदर सुंदर झांकियों का प्रदर्शन होता है। इस दिन मंदिरों की शोभा देखते बनती है। मथुरा वृंदावन में यह शोभा ओर भी देखने योग्य होती है। वहां मंदिर में रंगीन बल्बों से रोशनी की जाती है। श्री कृष्ण महाभारत युद्ध में पांडवों के साथी बने थे। तथा गीता का उपदेश दिया था। श्रीमद्भागवत गीता हिंदुओं का पूज्य धार्मिक ग्रंथ है।

भगवान श्रीकृष्ण द्वारा प्रेरणा

भगवान कृष्ण का संदेश धर्म का संदेश था। उन्होंने युद्ध क्षेत्र में निराश हताश अर्जुन को जो संदेश दिया वह केवल भारत को ही नहीं अपितु सारे संसार को अपने कर्तव्य पर अडिग रहने की प्रेरणा देता रहेगा। हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने श्री कृष्ण को अवतार पुरुष के रूप में मान्यता दी। वे श्री कृष्ण गीता के उद्देश्य से बहुत प्रभावित थे।
भारतीय जनजीवन में इस महान त्यौहार का बहुत महत्व है। यह त्यौहार हमें अध्यात्मिक और लौकिक संदेश देता है। इसलिए हमारा यह कर्तव्य है कि हम श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन भगवान श्री कृष्ण के चरित्र के गुणों को ग्रहण करने का संकल्प ले।
Read More Hindi Nibandh :

  1. दीपावली दीपों का त्यौहार
  2. ईद का त्यौहार
  3. होली पर हिन्दी निबंध

 
Search Tags : जन्माष्टमी निबंध | कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव | कृष्ण जन्माष्टमी फोटो | Krishna Janmashtami | janmashtami essay | Short Paragraph on Janmashtami Festival.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.