महिला नागा साधुओं से जुड़ी हुई रोचक बातें.

0
1851
महिला नागा साधुओं के चौंका देने वाले

Interesting things related to female Naga sadhus : आपने नागा साधुओं की रहस्यमय दुनिया के बारे में तो जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते हैं कि महिला नागा साधुओं की दुनिया भी कम रोचकता से भरी हुई नहीं है. बल्कि ये कहना गलत नहीं होगा कि हम में से अधिकतर लोगों को ये बात पता हीनहीं है कि महिला नागा साधुओं का भी अस्तित्व है. आइए हम आपको बताते हैं महिला नागा साधुओं से जुड़ी हुई रोचक बातें.

महिला नागा साधुओं से जुड़ी हुई रोचक बातें.

1. महिला नागा साधु बनने से पहले महिला को 6 से 12 साल तक कठिन बृह्मचर्य का पालन करना होता है। इसके बाद गुरु यदि इस बात से संतुष्ट हो जाते है कि महिला बृह्मचर्य का पालन कर सकती है तो उसे दीक्षा देते है।
2. महिला नागा साध्वी बनाने से पहले अखाड़े के साधु-संत महिला के घर परिवार और पिछले जीवन की जांच-पड़ताल करते है।
3. महिला को भी नागा साध्वी बनने से पहले खुद का पिंडदान और तर्पण करना पड़ता है।
4. जिस अखाड़े से महिला सन्यास की दीक्षा लेना चाहती है, उसके आचार्य महामंडलेष्वर ही उसे दीक्षा देते है।
5. महिला को नागा साध्वी बनाने से पहले उसका मुंडन किया जाता है और नदी में स्नान करवाते है।
6. महिला नागा साध्वी पूरा दिन भगवान का जप करती है। सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठना होता है। इसके बाद नित्य कर्मो के बाद शिवजी का जप करती है दोपहर में भोजन करती है और फिर से शिवजी का जप करती है। शाम को दत्तात्रेय भगवान की पूजा करती है और इसके बाद शयन।
7. सिंहस्थ और कुम्भ में नागा साधुओं के साथ ही महिला साध्वी भी शाही स्नान करती है। अखाड़े में साध्वी को भी पूरा सम्मान दिया जाता है।

8. जब महिला नागा साध्वी बन जाती है तो अखाड़े के सभी साधु-संत इन्हे माता कहकर सम्बोधित करते है।
9. महिला नागा साध्वी माथे पर तिलक और सिर्फ एक चोला धारण करती है। आमतौर पर ये चोला भगवा रंग का या सफेद होता है।
10. साध्वी बनने से पहले महिला को ये साबित करना होता है कि उसका परिवार और समाज से कोई मोह नहीं है। वह सिर्फ भगवान की भक्ति करना चाहती है। इस बात की संतुष्टि होने के बाद ही दीक्षा देते है।

11. पुरुष नागा साधू और महिला नागा साधू में फर्क केवल इतना ही है की महिला नागा साधू को एक पिला वस्त्र लपेट केर रखना पड़ता है और यही वस्त्र पहन कर स्नान करना पड़ता है। नग्न स्नान की अनुमति नहीं है, यहाँ तक की कुम्भ मेले में भी नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here