जीवन शैली

धार्मिक समुदाय में हिन्दू शैक्षिक स्तर पर पीछे Hindu religious community behind academic

धार्मिक समुदाय में हिन्दू शैक्षिक स्तर पर पीछे Hindu religious community behind academic

हाल ही में प्यू के ताजा रिपोर्ट में माना गया कि बीते हुए दशक में नई शैक्षणिक उपलब्धियां प्राप्त करने के बाद भी विश्व के बडे धार्मिक सम्प्रदाय में से सबसे कम शिक्षा हासिल करने का स्तर हिंदुओं का है।

एक सर्वे में ( 25 साल या उससे बडे )लोग और सबसे युवा पीढी में हिंदू वयस्को विश्लेषण किया गया है। इसमें किसी अन्य बडे धार्मिक समूह की तुलना में अब तक सबसे कम शैक्षणिक शिक्षा प्राप्ति का स्तर हिंदूओं का ही है। औचारिक शिक्षा 41 प्रतिशत हिंदूओं के पास नहीं है, जबकि यहूदी शीर्ष स्तर पर है।
यह माध्यमिक स्तर से ऊपर की डिग्री 10 में से एक के पास है। किसी अन्य धार्मिक समूह की तुलना में सभी पीढियों में हिंदू महिलाओं में अधिक शिक्षित होने के बाद भी अब तक के अत्याधिक शैक्षणिक लैंगिक अंतराल है। एक रिसर्च सेंटर के मुताविक जारी रिपोर्ट शीर्षक ‘रिलीजन एंड एजुकेशन अराउंड द वल्र्ड एट लार्ज‘ है। इसमें बताया गया है कि किसी अन्य बडे धार्मिक समूह की तूलना में विश्वभर में सबसे अधिक शिक्षित यहूदी हैं। यह रिपोर्ट 160 पन्नो में है।
जहां हिंदुओं व मुसलमानों में औपचारिक स्कूलिंग कुछ ही वर्षो की है। हलांकि इस मामले में 151 देशो से आंकडे एकत्रित किए गए।
रिपोर्ट के अनुसार विश्वभर में मुसलिम महिलाओं की स्कूलिंग का औसत 4.9 वर्ष है, और मुसलमान पुरूषों में यह 6.4 वर्ष है। दूसरे तरफ हिंदु महिलाओं मे औपचारिक स्कूलिंग विशेष रूप से कम है। इनकी स्कूलिंग औसत 4.2 है। जहां हिंदू पुरूषों की 6.9 वर्ष है। प्यू के अनुसार भारत में हिंदुओं की स्कूलिंग का औसत 5.5 वर्ष है। हलांकि बांग्लादेश और नेपाल में क्रमश: 3.9 और 4.6 वर्ष की है। जबकि अमेरिका में हिंदुओं की स्कूलिंग का औसत 15.7 वर्ष है। वहीं यूरोप में 13.9 वर्ष है।

Leave a Comment