मूंगफली खाएं एलर्जी भगाएं : मूंगफली खाने के फायदे : Health Benefits of Peanuts

0

बच्चों को एलर्जी से बचाना है तो उन्हें मूंगफली खिलाइए। चार महीने की उम्र से बच्चों को मूंगफली खिलाया जाना चाहिए। बच्चों को आहार में कम उम्र में मूंगफली को शामिल करके उनमें एलर्जी का खतरा काफी कम किया जा सकता है, भले ही बच्चे पांच साल की उम्र के आसपास इन्हें खाना छोड़ दें। ‘न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन’ New England Journal of Medicine. में प्रकाशित एक शोध में यह दावा किया गया है कि कम उम्र में मूंगफली के सेवन से इससे संबंधित एलर्जी का खतरा कम हो जाता है।

मूंगफली खाएं एलर्जी भगाएं :  Health Benefits of Peanuts

ऐसा करने से बच्चो एलर्जी की चपेट में नहीं आते हैं। यह बात अमरीका में हुई नई स्टडी से सामने आई है। स्टडी से पता चलता है। कि बच्चों में एलर्जी की आशंका को मूंगफली 80 फीसदी कम देती है। ‘द नेशनल इंस्टिट्यूट आॅफ एलर्जी ऐंड इन्फेक्शियस डिजीज’ National Institute of Allergy and Infectious Diseases. का कहना है कि यह महत्पूर्ण खोज है।  कई परीक्षणों के माध्यम से प्रतिभागियों के रक्त में मूंगफली की एलर्जी का मापन किया गया।

Peanut Butter

शोध में पाया गया कि एक साल तक मूंगफली का सेवन न करने पर भी छह वर्ष की उम्र में उनमें एलर्जी में कोई खास वृद्धि नहीं हुई। कुल मिलाकर शोध में पाया गया कि जिन बच्चों ने मूंगफली का सेवन किया, उनमें इससे संबंधित एलर्जी का खतरा उन बच्चों की तुलना में 74 प्रतिशत कम पाया गया, जिन्होंने इसका सेवन नहीं किया। हालांकि बच्चों को मूंगफली का पूरा दाना नहीं खाना चाहिए। क्योंकि फंसने की आशंका रहती है। अमरीका में एलर्जी का दायरा लगातार बढता रहा है। 2008  के मुकाबले इसका दायरा चार गुना ज्यादा बढ गया है। दमा की बीमारी से पीड़ित बच्चों में मूंगफली से एलर्जी का खतरा हो सकता है।
शोधकर्ताओं ने मर्सी चिल्ड्रन अस्पताल के बाल चिकित्सा के फेफड़े संबंधी क्लिनिक के 1,517 बच्चों पर शोध किया, जिसमें पता चला कि इसमें से लगभग 11 प्रतिशत बच्चे मूंगफली एलर्जी से पीड़ित थे, लेकिन वे इससे अनजान थे।खून की जांच के लिए आए लगभग 44 प्रतिशत बच्चों में से लगभग 22 प्रतिशत मूंगफली से एलर्जी में सकारात्मक पाए गए। हालांकि, इनमें से आधे बच्चों या परिवारों को नहीं पता था कि ये इस बीमारी से ग्रसित हैं।
एलर्जी बढने का यह पैटर्न पश्चिम  के देशों के साथ एशिया और अफ्रीका में भी समान रूप से हैं। अब तक कहा जाता ताकि बच्चों को तीन साल के बाद ही मूंगफली खिलानी चाहिए।

नई स्टडी कहती है।

अन्य तरह की एलजी और गंभीर एक्जिमा वाले बच्चों को मेडिकल निगरानी में मूगफली युक्त खाद्य सामग्री देनी चाहिए। जिन्हें न कोई एलर्जी उन बच्चों को भी मूंगफली ‘युक्त चीजे खाने के लिए दे सकते हैं।
नेशनल इंस्टिट्यूट आॅफ एलर्जी ऐंड इन्फेक्शियस डिजीज के निदेशक डाॅ एटानी फाउसी ने कहा, “हमलोग उम्मीद करते हैं कि इन निर्देशों का बडे पैमाने पर पालन किया गया तो एलर्जी को फैलने से रोक सकते हैं। खासकर अमेरीका में एलर्जी के बढते दायरे को काबू में किया जा सकता है।”
यूरोपीयन एकेडमी आॅफ एलर्जी ऐंड क्लिनिकल इम्यूनॉलजी एक सदस्य माइकल वाॅल्कर ने कहा कि ये गाइडलाइन्स मेडिकल रिसर्च पर आधारित हैं। और इसे ब्रिटेन में भी अपनाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में भी माता-पिता को इसे आजमाना चाहिए।
इम्पीरिअल काॅलेज लंदन, के प्रो अलान बूबीज ने कहा, “पहले माना जाता थ कि एलर्जी कम करने वाली खाद्य सामग्रियो को बच्चों को देर से देना चाहिए, लेकिन अब यह गलत साबित हो गाया है। ”


दमा के घरेलु उपचार


लेटेस्ट अपडेट व लगातार नयी जानकारियों के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करे, आपका एक-एक लाइक व शेयर हमारे लिए बहुमूल्य है यह पोस्ट आपको कैसी लगी निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें बताएं, और अगर कोई सवाल पूछना हो या सुझाव देना हो तो आप अपना मेसेज निचे लिख दें . अगर आपको पोस्ट अच्छे लगी हो तो इसे शेयर और करना न भूले। आप हमसे  Facebook, +google, Instagram, twitter, Pinterest और पर भी जुड़ सकते है ताकि आपको नयी पोस्ट की जानकारी आसानी से मिल सके। हमारे Youtube channel को Subscribe जरूर करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here