हस्तरेखा ज्योतिष चित्र सहित- Hastrekha Gyan In Hindi

0
4515
Heart line in palm - हृदय रेखा

हस्तरेखा ज्ञान चित्र सहित | Palmistry With pictures – Hastrekha Gyan In Hindi : हस्तरेखा शास्त्र एक ऐसा हस्तरेखा ज्योतिष विद्या है। जिसमें व्यक्ति के हाथों की लकीरों को देख कर उन पर बने चिन्ह के अनुसार, भूत भविष्य वर्तमान की भविष्यवाणियां दी जाती है। हस्तरेखा ज्योतिष में हाथों की लकीरों का विशेष महत्व होता है। यह लकीरें व्यक्ति के हाथों पर स्थाई और अस्थायी दोनों रूप से होती। कहने का मतलब यह है की बहुत सी लाइन व्यक्ति के कर्मानुसार उनके विचारो के अनुसार बनती-बिगड़ती रहते हैं। हाथों पर बने चिन्ह जैसे क्रॉस सितारे अर्धचंद्राकार वर्ग आदि जिनका अध्ययन करके, भविष्य में आने वाले शुभ अशुभ घटनाओं के बारे में पता लगाया जा सकता है। मुख्य रेखाएं होती हैं जो अपने नाम के हिसाब से फल देती हैं। हस्तरेखा ज्योतिष में हम हाथ के महत्वपूर्ण रेखाओं के बारे में बताने जा रहे हैं। जो समय समय पर हस्तरेखा ज्योतिषियों द्वारा पूरी दुनिया में प्रचलित है।

हस्तरेखा ज्ञान चित्र सहित | Hastrekha Gyan In Hindi Palmistry With pictures

Palmistry With pictures

Hastrekha in hindi | Palm reading in hindi | learn palmistry in hindi
रेखाओं का जीवन में बहुत महत्व है जो हमारी परिस्थितिओं व हमारे अच्छे-बुरे समय को व्यक्त करता है ।

भाग्य रेखा – Fate line in hand

हस्तरेखा ज्योतिष, भाग्य रेखा, Fate line in hand, hastrekha in hindi, हस्तरेखा ज्ञान चित्र सहित, hastrekha gyan

भाग्य Rekha कलाई के मध्य से आरंभ होती है और चंद्र पर्वत से गुजरते हुये मस्तिष्क या हृदय या जीवन रेखा तक जाती है। इस रेखा के द्वारा व्यक्ति के शिक्षा, कैरियर ,जीवन साथी और जीवन मे सफलता एवं विफलता को दर्शाती है।

जीवन रेखा – Life Line in Hand , हस्तरेखा ज्ञान चित्र सहित, hastrekha gyan

(Life Line in Hand): जीवन रेखा अंगुठे के निचले क्षेत्र को घेरे रहती है। यह क्षेत्र शुक्र का माना जाता है। यह लाइन तर्जनी और अंगुठे के बीच से शुरु होकर मणिबंध तक जाती है। इसकी आकृति एक आर्क की तरह होती है। जीवन रेखा से ही मनुष्य की आयु और उसके जीवन में रोगों आदि का पता चल पाता है।

हृदय रेखा – Heart line in palm

Heart line in palm - हृदय रेखा

हस्तरेखा ज्योतिष – हृदयरेखा हथेली में कनिष्ठिका अंगुली के नीचे बुध पर्वत के नीचे से निकलकर सूर्य तथा शनि के क्षेत्रों को पार करती हुई गुरु पर्वत तक जाती है, लेकिन सभी हाथों में यह स्थिति नहीं होती। यह हथेली के उपरी हिस्से में उंगलियों के ठीक नीचे होती है। यह हृदय के प्राकृतिक और मनोवैज्ञानिक स्तर को दर्शाती है। यह रोमांस कि भावनाओं, मनोवैज्ञानिक सहनशक्ति, भावनात्मक स्थिरता और अवसाद की संभावनाओं का विश्लेषण करने के साथ ही साथ हृदय संबंधित विभिन्न पहलुओं की भी व्याख्या करती है।

मस्तिष्क रेखा – Head line in palmमस्तिष्क रेखा - Head line in palm

मस्तिष्क Rekha हृदय लाइन के ठीक नीचे होती है. यह लाइन तर्जनी तथा अंगूठे के लगभग मध्य से शुरू होती है. यह लाइन व्यक्ति की अस्वाभाविक प्रवृत्ति का पता चलता है. आमतौर पर यह line तर्जनी के नीचे से शुरू होती है। जीवन रेखा सामान्य स्वास्थ्य व शारीरिक गठन के बारे में बताती है. जबकि मस्तिष्क लाइन मानिसक स्वास्थ के बारे में बताती है। मस्तिष्क रेखा हाथ को दो भागों में बांटती है। ऊपरी भाग मानसिक स्वास्थ्य का सूचक होता है। निचला भाग भौतिक इच्छाओं को बताता है।

स्वास्थ्य रेखा – Health line in Palmस्वास्थ्य रेखा - Health line in Palm

स्वास्थ्य रेखा का हस्तरेखा विज्ञान में अपना महत्व है। यह लाइन बहुत कम हाथों में पाई जाती है। व्यक्ति के स्वास्थ्य के बारे में यह लाइन बहुत कुछ बताती है। जानिए क्या कहती है व्‍यक्‍ति के हाथ की स्‍वास्थ्य रेखा। चन्द्र पर्वत अथवा हथेली के आधार से बुध पर्वत तक पहुंचने वाली लाइन स्वास्थ्य अथवा बुध रेखा कहलाती है। यह लाइन बहुत कम हाथों में पायी जाती है। इस लाइन का संबंध व्यक्ति के आमाशय, यकृत, स्वास्थ्य और शक्ति से है। स्वास्थ्य संबंधी बुध लाइनके प्रभावों को हाथों में पर्वतीय प्रधानता के आधार पर प्रभावी समझना चाहिए। बुध रेखा का उदय हथेली के आधार पर कहीं भी हो सकता है। यह लाइन जीवन और भाग्यरेखा से जितनी दूर रहे उतना ही शुभ है होता है।

सूर्य रेखा : हस्तरेखा ज्योतिषसूर्य रेखा : हस्तरेखा ज्योतिष

यह लाइन समाज में यश और सम्मान को दर्शाती।  सन लाइन अनामिक ऊंगली यानि रिंग फिंगर के निचले क्षेत्र में होती है जो सूर्य पर्वत से शुरु होकर ऊपर की तरफ जाती है। यदि सूर्य लाइन सूर्य पर्वत से लेकर मणिबंध तक जाए तो इसे असाधारण माना जाता है। ऐसी लाइन बड़े सितारों कलाकारों या नेताओं के हाथों में आसानी से देखी जाती है। कई लोगों के हाथों में तो यह लाइन होती ही नहीं है।

विवाह रेखा – Marriage line in Palmविवाह रेखा - Marriage line in Palm

हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार Marriage line से व्यक्ति के विवाह और प्रेम प्रसंग के बारे जाना जाता है। कहां होती है
विवाह रेखा : विवाह लकीर सबसे छोटी अंगुली के नीचे वाले क्षेत्र में होती हैं। इस क्षेत्र को बुध पर्वत कहते हैं। बुध पर्वत के अंत में कुछ आड़ी गहरी रेखाएं होती हैं। यह विवाह रेखाएं कहलाती है। यह रेखाएं रिश्तों में आत्मीयता, वैवाहिक जीवन में खुशी, वैवाहिक दंपती के बीच प्रेम और स्नेह के अस्तित्व को दर्शाता है। Marriage line पर विचार करते समय शुक्र पर्वत और हार्ट लाइन को भी ध्यान मे रखना चाहिये।

यात्रा रेखाएँ – Travel lines in Palmयात्रा रेखाएँ - Travel lines in Palm

Yatra Rekha in hand : चन्द्र पर्वत पर आड़ी एवं खड़ी लाइन दोनों से यात्रा का विचार किया जाता है तथा लाइफ लाइन से निकलकर चन्द्र पर्वत पर पहुंचती रेखाएं या हथेली के पाश्र्व से चन्द्र पर आती हुई रेखाएं यात्रा रेखा कहलाती है। मणिबन्ध से उठकर चन्द्र पर पहुंचने वाली रेखायें भी यात्राओं के बारे में ज्ञान दर्शाती हैं। ट्रेवल लाइन की शक्ति पर्वत की प्रधानता के अनुसार निश्चित की जाती है।

सिमीयन रेखा – Simian lines in handSimian lines in hand

हस्तरेखा ज्योतिष सिमीयन रेखा : जो लाइन Heart line और मस्तिष्क रेखा को जोड़ती है। सिमीयन रेखा, सिमीयन फोल्ड, सिमीयन क्रीज के नाम से भी जानी जाती है। यह दुर्लभ लाइन है जो मस्तिष्क और हृदय के संयोजन का प्रतिनिधित्व करती है। सिमीयन लाइन व्यक्ति में मानसिक धैर्य और संवेदनशीलता को बताती है।

करधनी रेखाएं – Kardhani Rekhaकरधनी रेखाएं - Kardhani Rekha

हस्तरेखा ज्योतिष करधनी रेखा का आरंभ अर्धवृत्त आकार में कनिष्ठा और अनामिका उंगली के मध्य में और अंत मध्यमा उंगली और तर्जनी पर होता है। इसे गर्डल रेखा या शुक्र का गर्डल भी कहते हैं। यह व्यक्ति को अति संवेदनशील और उग्र बनाती है। जिन व्यक्तियों मे गर्डल या शुक्र की लकीर पाई जाती है वह व्यक्ति की दोहरी मानसिकता को दर्शाता है।

comment and share : हस्तरेखा ज्योतिष, hastrekha in hindi, हस्तरेखा ज्ञान चित्र सहित, hastrekha gyan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here