Happy Ramadan 2018: पहला रोजा आज, जानिए क्यों रखते हैं रोजा 

0
52
Happy Ramadan 2018:
Happy Ramadan 2018:

Happy Ramadan 2018 : चाँद के दीदार के साथ रमजान का पवित्र महीना 17 मई 2018 (गुरूवार) यानि आज से शुरू हो गया है। इस्लाम धर्म रमजान को सबसे पवित्र महीना मानता है। इसलिए दुनियाभर के मुस्लिम भाईयों को हर साल रमजान मुबारक का बेसब्री से इंतजार रहता है। बुधवार 16 मई को फलक पर चांद नजर आते ही माह-ए-रमजान की शुरूआत हो गई है। साथ ही साथ मस्जिदों में तराबीह की नमाज शुरू हो चुकी है।

Ramzan Mubarak

इसे भी पढ़ें: इलायची के गुण, फायदे और नुकसान 

माह-ए-रमज़ान: रोजा का महत्व

लगभग 45 डिग्री सेल्सियस तापमान में दिनभर करीब 15 घंटे बगैर कुछ खाये-पिये रहना कठोर तप करने जैसा है। इस्लाम धर्म में रोजा रखना अनिवार्य माना जाता है। कुछ परेशानी के चलते चंद लोगों के रोजे छूट जाते हैं।

सभी मस्जिदों के अलावा अन्य स्थानों पर भी तरावीह की नमाज हो रही है। इनमें से कुछ स्थानों पर सात दिनों में, तो कुछ स्थानों पर 27 दिनों में तरावीह पढ़ी जाएगी। इस्लाम धर्म में रमजान में हर बालिग मुस्लिम पुरुष और महिला पर रोजा फर्ज है।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जीवनी

रोजे का एहतेराम करना चाहिए। साल के सभी महीनों में सबसे अफजल रमजान का महीना है। रमजान के महीना में अल्ला ताआला रहमतों और बरकतों की बरसात करता हैं। रमजान माह में एक नेकी के बदले सत्तर नेकियां मिलती हैं।
मुसलमानों के लिए यह महीना इसलिए अफजल है कि रामजान के महीना में ही अल्लाह तआला ने कुरान ए पाक को नाजिल फरमाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here