घरेलु नुस्खे

गला बैठना, गले में खराश, गले में कुछ भी निगलने पर होने वाले दर्द का परिचय और निजात पाने के उपाय.

कई बार खांसी जुकाम की वजह से या कुछ गलत खान पान से हमारे गले में भयंकर समस्या आ जाती हैं, और समस्या इतनी भयंकर हो जाती हैं के हम कुछ खा भी नहीं सकते. आज हम आपको बताएँगे ऐसी ही गले की भयंकर समस्याएं और किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन जैसे टॉन्सिल नया या पुराना, गला बैठना, गले में खराश, गले में कुछ भी निगलने पर होने वाले दर्द का परिचय और निजात पाने के उपाय.

क्या है गले का रोग?

गले के रोग एक प्रकार का श्वसन संबंधी इंफेक्शन है जो ऊपरी वायु मार्ग (श्वसन तंत्र के) के वायरल इंफेक्शन द्वारा होता है. इंफेक्शन के चलते गले के भीतर सूजन हो जाती है. सूजन के कारण सामान्य श्वसन में बाधा उत्पन्न होती है; “भौंकने वाली”खांसी, स्ट्रिडोर (तेज़ घरघराहट की ध्वनि), तथा स्वर बैठना/गला बैठना गले के रोग के मुख्य लक्षण हैं.

गले के रोग के लक्षण हल्के, मध्यम या गंभीर हो सकते हैं तथा रात के समय ये बदतर हो जाते हैं. मौखिक स्टीरॉयड की एक खुराक स्थिति का उपचार कर सकती है. कभी-कभार, एपाइनफ्राइन अधिक गंभीर मामलों के लिये उपयोग की जाती है. अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता बेहद कम पड़ती है.

gale ke rog

गले के रोग का कारण-

गले के रोग वायरस इंफेक्शन के कारण उत्पन्न होता है. इस रोग को गंभीर लैरिंगोट्रेकाइटिस, स्पैस्मोडिक क्रुप, लैरेन्जियल डिफ्थीरिया, बैक्टीरियल ट्रैन्काइटिस, लैरियेंगोट्राकियोब्रॉन्काइटिस और लैरियेंगोट्रैकोब्रॉन्कोन्यूमोनाइटिस के नाम से भी जानते हैं.

इसके पहली दो स्थितियां वायरस से संबंधित है और लक्षण भी मामूली होते हैं. वहीं इसके आखिरी चार स्थितियां बैक्टीरिया से संबंधित हैं जो अधिक गंभीर होती है.

क्र.मगले के रोगपरिचय
1अन्ननली का सिकुड़नाजब गले की मांसपेशियों और आहार नली के तन्तुओं में दोष पैदा हो जाते हैं तो आहार नली फैलने और सिकुड़ने (संकुचन और प्राकुचन) की क्रिया ठीक से नहीं करती
2गले में दर्दविभिन्न कारणों से गले में दर्द होता है जैसे- किसी चीज से गले पर चोट लगती है, गला छील जाता है
3गले में सूजन, पीड़ा और खुश्कीअक्सर ज्यादा धूम्रपान करने (बीड़ी, सिगरेट पीने से), शराब पीने, खाने में ठंडी चीजे खाने से, ठंडी चीजों के खाने के बाद तुरंत ही गर्म चीजें खाने से, पेट में बहुत ज्यादा कब्ज रहने से, गले में सूजन, दर्द, खुश्की तथा थूक निगलने में परेशानी या गला बैठ जाना आदि रोग पैदा हो जाते हैं।
4स्वरभंग (गला बैठना)अस्पष्ट आवाज (खराब आवाज), कर्कश स्वर (भारी आवाज) को स्वरभंग या गला बैठना कहते हैं।
5टांसिल बढ़नागले के प्रवेश द्वार के दोनों तरफ मांस की एक गांठ सी होती है, जो लसिका ग्रंथि के समान होती है जिसे टांसिल कहते हैं।
6अन्ननली का प्रदाहजब इस आहार नली में जलन होने लगती हैं तो उसे अन्न नली की जलन कहते हैं।
7गलकोष प्रदाहइस रोग में मुंह के अन्दर जीभ के पास के सभी स्थान फूल जाते हैं। गोंद की तरह चिपचिपा सा बलगम गले में चिपका रहता है। गलकोष पककर जख्म हो जाता है कुछ भी निगलने या पीने में बड़ा दर्द या जलन होने लगती है।
8घेंघा (गलगंड)घेंघा का रोग अधिकतर आयोडीन की कमी से होता है। कभी-कभी थायरॉयड ग्रंथि के बढ़ने के कारण भी ऐसा होता है। इस रोग में गर्दन या ठोड़ी में छोटी या बड़ी सूजन लटकती है।
9कण्ठ शालूकइस रोग में रोगी के नाक और गले के बीच में एक मोटी सी गांठ बन जाती है। जिसके कारण रोगी को बार-बार जुकाम हो जाता है और नाक भी बंद हो जाती है। रोगी को मजबूर होकर मुंह से सांस लेनी पड़ती है। रोगी को सुनाई देना भी कम हो जाता है।
10तुण्डिका शोथबच्चों के गले में थोड़ी सी लापरवाही से तुण्डिका शोथ अर्थात टांसिल की बीमारी हो सकती है। एक बार तुण्डिका शोथ (टॉन्सिल) होने पर लंबे समय तक यह बीमारी चलती रहती है। जवानी में भी तुण्डिका शोथ (टॉन्सिल) की बीमारी हो सकती है।
11कंठमालाकंठमाला एक गले का रोग है जो गिल्टियों के रूप में उत्पन्न होता है। इसमें जलन होती है। इन गिल्टियों के बढ़ने के साथ बुखार बना रहता है।
12कण्ठमूल ग्रंथि शोथशीशे में देखने पर गले के अंदर जीभ के ऊपर या मुंह में तालु के बगल में सुपारी के जैसी सूजन दिखाई पड़ती है जोकि टांसिल की वृद्धि को दिखलाती है।
13विनसेण्ट एनजाइनाविनसेण्ट एनजाइना में गले की टांसिलों पर सफेद रंग की झिल्ली बन जाती है। झिल्ली के नीचे जख्म बन जाता है। जिसमें से कभी-कभी बदबू भी आने लगती है। यह रोग 8 से 10 दिनों में ठीक होता है।
14स्वरयंत्र शोथ या प्रदाहस्वरयंत्र यानी आवाज की नली की श्लैष्मिक झिल्ली में जब सूजन आ जाती है तो उसे स्वर यंत्र प्रदाह (गले में जलन) अथवा स्वर यंत्र शोथ (गले में सूजन) कहते हैं।
15प्यास अधिक लगनाप्यास (तृष्णा) एक रोग है जो अत्यधिक प्यास से उत्पन्न होता है। अत्यधिक परिश्रम करने पर या बुखार होने पर शरीर में पानी की कमी हो जाती है। शरीर में पानी की कमी होने पर पानी की कमी को दूर करने के लिए प्यास लगती है जिसे प्यास (तृष्णा) कहते हैं।

About the author

inhindi