Home / आध्यात्मिक हिंदी कहानी

आध्यात्मिक हिंदी कहानी

गृहस्थी की जिम्मेदारी पूरी करो

(जय गुरुदेव ) जब विवेक हो, मोह भ्रम भागे तभी दया होगी। मोह भ्रम जाएगा नहीं, विवेक जागेगा नहीं तो क्या कोई साधना करेगा। किसी को साधु बनाना नहीं। गृहस्थी की जिम्मेदारी पूरी करो। परिवारिक सामाजिक जो भी जिम्मेदारी है उसे निभावो। बहुत सी चीजें महात्माओं ने आप को दी …

Read More »

बादल करते है? प्राण वर्षा – जीवन में बारिश का महत्व

बादल, प्राण वर्षा करते है,   प्राणी मात्र अन्न से उत्पन्न होते हैं, अन्न पर्जन्य से उतपन्न होता है, पर्जन्य यज्ञ से पोषित होते हैं, और यज्ञ कर्मो से होता है। कर्म ब्रह्म से यानी वेद से हुए हैं और वेद अविनाशी परमात्मा से उत्पन्न हुए हैं, अर्थात् सर्वव्यापी ब्र्रह्म …

Read More »

ख़ुशी पाने की चाह Gladly want to get

ख़ुशी पाने की चाह Gladly want to get अंतर के खजाने एक गावं में एक किसान रहता था, जो की करीब था वह खेत से आजीविका कमाने की कोशिश करता था पर इतना नही काम पाता था की अच्छा घर, महँगी चीजे या सुंदर वस्त्र ले सकें। वह इतने फाटे पुराने …

Read More »

थॉमस : हर के बाद जीत Thomas: After every victory

थॉमस : हर के बाद जीत Thomas: After every victory थॉमस एडिसन ने बिजली के बल्ब का आविष्कार किया था। अगर यह उत्तम आविष्कार नहीं हुआ होता तो हम अनुमान लगा सकते हैं कि हमारी जिंदगी कैसी होती। बिजली के बल्ब से यह सम्भव हो स्का कि हम रात में …

Read More »

हम किस दौड़ में हैं? What are we running?

हम किस दौड़ में हैं? What are we running? रूस में एक किसान था, जिसके पास एक छोटा सा प्लॉट था। उसकी उसकी जिंदगी बड़ी शांति और संतोष से कट रही थी पर एक दिन उसे अपनी पत्नी के भाई से ईर्ष्या हो गई जो जो की एक जमींदार था उसने …

Read More »

आध्यात्मिक विचार :समय निरर्थक, समझ निरर्थक, सामर्थ्य निरर्थक

adhyatmik-vichar आध्यात्मिक हिंदी कहानी- अपनी योग्यता से परमात्मा नहीं मिलते। योग्यता से संसार में नाम होता है। संसार की वस्तु मिलती है। भगवान के यहां योग्यता की क्या कमी है। आपकी योग्यता वहां काम करेगी, जहां योग्यता की कमी है। आध्यात्मिक विचार :समय निरर्थक, समझ निरर्थक, सामर्थ्य निरर्थक adhyatmik-vichar  गांव में लखपति …

Read More »