Vastu ke upay

दुकान के वास्तु दोष निवारण के 10 अचूक उपाय

business/shop/office vastu tips in hindi- आज के समय में लाखो करोड़ो लोग अपनी आजीविका के लिए दुकान, ऑफिस, शोरूम के द्वारा काम करते है। दिकण या ऑफिस में बैठ कर कोई भी व्यापार किया है है जैसे : कपडे की दुकान, चैकी दुकार, निठिए की दुकान, मोबाइल की दुकान या शोरूम, इलेक्ट्रॉनिक्स चीजों, की दुकान, गिफ्ट शॉप, दवा, मेडिसिन, पेंट्स एंड हार्डवेयर,फर्नीचर इत्यादि। ऐसे बहुत सी दुकाने लोगचलती है। कुछ लोग तो अच्छा मुनाफा कमाते है तो कही किसी न किसी परेशानी से जूझते रहते उनकी दुकान पर ग्राहक कम मुशीबत ज्यादा आती है। ऐसा नहीं की वे लोग मेहनत नहीं करते है। फिर भी ऐसा क्या होता है जो दुकान हर कोसिस की बाद भी नहीं चलती।

दुकान अगर वास्तु के अनुरूप नहीं होती तो बहुत सी समस्या लाती है। मुनाफा तो दूर सर पर कर्जे का बोझ लड़ जाता है। इसलिए जानिए दुकान का वास्तु, Dukan Ka Vastu,शो रूम का वास्तु, Show Room Ka Vastu के उपाय। क्यूंकि दुकान न चलने का प्रमुख कारण व्यापारिक स्थल का वास्तु दोष भी हो सकता है ।

अत: व्यापार करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें की उसकी दुकान वास्तु सम्मत है अथवा नहीं , अगर नहीं तो उसमें कितना सुधार किया जा सकता है । ध्यान रहे की आपके कार्य / व्यापार पर आपके पूरे परिवार का भविष्य निर्भर होता है अत: यदि आपकी दुकान में वास्तु दोष है तो उसे अवश्य ही दूर करें। हम यहाँ पर बताये गए आसान से वास्तु के उपाय से दुकान, शो रूम, व्यापारिक प्रतिष्ठान के दोष का पता लगाकर उनका निवारण कर आप निश्चित रूप से लाभ प्राप्त कर पाएंगे।Main door of the shop vastu

1. नयी दुकान की शुरुआत करते समय हमेशा ध्यान रखे की दुकान का मुख्य दरवाज़ा / प्रवेश द्वार उत्तर पूर्व की और हो।

2. दुकान के मालिक या दुकानदार को दुकान में उत्तर दिशा में मुँह करके बैठना चाहिए। क्युकी उत्तर दिशा कुबेर भगवान् की दिशा है। इसलिए इस दिशा में मुँह करके बैठने से व्यापर अवश्य ही लाभ होता है। साथ ही उत्तर दिशा कि तरफ मुँह करके बैठने से दिमाग एक्टिव रहता है।

3. ग्राहक के आपका प्रभाव ज्यादा पड़ता है। दुकान का गल्ला या कॅश बॉक्स और जरुरी कागजात, बैंक के चेक बुक, बिल आदि को दाहिनी और रखना लाभकारी रहता है। ऐसा करने से लाभ के साथ समाज में आपकी मान प्रतिष्ठा में भी बढ़ोत्तरी होती रहती है।

4. इस बात का हमेशा ध्यान रखे की दुकान के कैश काउंटर ,मालिक या मैनेजर के बैठने के स्थान के ऊपर किसी भी प्रकार की बीम नहीं होनी चाहिए। यदि है तो इसका उपाय उस पर टाइल्स, या फॉल सीलिंग लगवा कर कर सकते है। साथ ही एक बाँसुरी को कलावा या लाल कपडे से बांध कर लटका दे।

5. दुकान के दरवाज़ों की व्यवस्था इस प्रकार करे की जब भी कोई द्वार खोले तो वह अंदर की तरफ ही खुले।

6.  दुकान के अंदर सामान को बेचने या दिखाने वाले सेल्समेन का मुँह हमेशा उत्तर या पूर्व दिशा की तरफ ही होना चाहिए।

7. दुकान के अंदर पूजा स्थान या मंदिर को ईशान कोण या पूर्व दिशा में बनाना चाहिए। अगर मंदिर नहीं है तो उस स्थान को हमेशा साफ़ सुथरा और खाली रखे।

8. दुकान के अंदर पानी/ जल की व्यवस्था भी ईशान कोण या पूर्व दिशा में करनी चाहिए।

9. दुकान के अंदर स्टोर रूम को पश्चिम दिशा, नेत्रत्य अथवा दक्षिण दिशा में बनवाना चाहिए। किसी भी प्रकार के भरी सामान, या माल का स्टॉक यही रखने की कोशिस करे।

10. दुकान के अंदर ग्राहकों के अंदर आने जाने की व्यवस्था हमेशा पूर्व दिशा अथवा उत्तर दिशा की करे। यानी वह जगह हमेशा खाली रखे।

Other similar jyotish tips : 

Leave a Comment