बुरे सपने का प्रभाव ख़त्म करने के लिए करे यह उपाय

बुरे सपने का प्रभाव : सामान्य रूप से सपने सभी को आते हैं। फिर वो चाहे बच्चा हो या बूढ़ा। स्वप्न आना एक स्वभाविक प्रक्रिया है, लेकिन हमारे समाज में सपनों को लेकर कई मान्यताएं प्रचलित हैं। ऐसा माना जाता है कि सपने हमें भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में अवगत करते हैं। जिनमे कुछ सपनों का फल शुभ माना जाता है तो कुछ का अशुभ। स्वप्न ज्योतिष की माने तो सपने चार प्रकार के होते हैं- पहला दैविक, दूसरा शुभ, तीसरा अशुभ और चौथा मिश्रित। ये सभी भविष्य में होने वाली अच्छी-बुरी घटनाओं के बारे में हमें बताते हैं। कुछ सपने जल्दी सच हो जाते हैं तो कुछ देर से। आइये जानते है। सपनों के बारे में कुछ खास बातें-

बुरा सपना आने पर करें यह उपाय, नष्ट हो जाएगा बुरा फल

1. दैविक व शुभ सपने कार्य सिद्धि यानी काम में सफलता मिलने की सूचना देते हैं।
2. अशुभ सपने कार्य नहीं होने की सूचना देते हैं और मिश्रित स्वप्न मिश्रित फलदायक होते हैं।
3. स्वप्न ज्योतिष के अनुसार रात के पहले पहर में देखे गए सपने का फल एक साल के अंदर मिलता है। दूसरे पहर में देखे गए सपने का फल छ: महीने में मिलता है।
4. तीसरे पहर में देखे गए सपने का फल तीन महीने में मिलता है और चौथे पहर यानी सुबह देखे गए सपने का फल तुरंत मिलता है।
5. बुरा सपना देखकर यदि रात में ही किसी को बता दें तो उस सपने का फल नष्ट हो जाता है अथवा सुबह उठकर भगवान शंकर को नमस्कार कर उसके बाद तुलसी के पौधे को जल चढाएं तो भी उस बुरे सपने का फल नष्ट हो जाता है।
6. रात को सोने से पहले भगवान विष्णु, शंकर, महर्षि अगस्त्य और कपिल मुनि का स्मरण करने से बुरे सपने नहीं आते।

  • स्वप्न फल जानिए 1500+ सपनों के फल (स्वप्न फल लाल किताब) सपनो का मतलब
  • जल्द होने वाले है आप करोड़पति….. अगर आपको भी दिखाई दे रहे है इस प्रकार के सपने !

यह पोस्ट आपको कैसी लगी निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें बताएं, और अगर कोई सवाल पूछना हो या सुझाव देना हो तो आप अपना मेसेज निचे लिख दें . अगर आपको पोस्ट अच्छे लगी हो तो इसे शेयर और करना न भूले। आप हमसे  Facebook, +google, Instagram, twitter, Pinterest और पर भी जुड़ सकते है ताकि आपको नयी पोस्ट की जानकारी आसानी से मिल सके। हमारे Youtube channel को Subscribe जरूर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.