Bra Lifestyle

ब्रा है क्या?, कहाँ से आई, क्यों आई

ब्रा है क्या?, कहाँ से आई, क्यों आई

दुनिया में हर चीज़ कभी न कभी शुरू हुई होगी. और हर चीज़ के पीछे कोई न कोई कहानी भी जरूर होती है. लेकिन क्या आप जानते हैं की लडकियों की ब्रा की या हिस्ट्री है. शायद ही कोई होगा जो इस बात का सही उत्तर दे पाए.

लेकिन आज हम आपको इस सच्चाई से रु ब रु भी करवाएंगे और ये भी बताएँगे की इसका इतिहास कहां से शुरू हुआ.

तो आइये जानतें हैं तो ब्रा है क्या?, कहाँ से आई, क्यों आई ये एक सवाल है जो कई समय से दिमाग में घूमता रहता है.

24 साल पहले बनाई गई ब्रा

कब, कैसे हुआ ब्रा का अविष्कार?

ब्रा की रचना आज से 24 साल पहले हुई थी लेकिन उस समय लड़कियों को ब्रा पहनने से सख्त नफरत थी. लडकियां उस समय में ब्रा को अच्छा नहीं मानती थी और उनका कहना होता था कि ब्रा शरीर को बाढ़ देती हैं लेकिन धीरे-धीरे लड़कियों को इसकी हेबिट हो गई और उन्होंने इसे पहनना शुरू कर दिया. ब्रा फ़्रेंच शब्द ‘brassiere’ का छोटा रूप मन जाता है और इस शब्द का अर्थ होता है शरीर का ऊपरी हिस्सा.

फ्रांस में बनी मॉर्डन ब्रा

पहली बार मॉर्डन ब्रा को फ्रांस में बनाया गया था और पहली बार उसे बनाया भी दो कपड़ो के टुकड़ों को काटकर बीच में से जोड़कर तैयार किया गया था. उस समय ‘brassiere’ को तोड़कर ब्रा कहा जाने लगा. पहली बार किसने ब्रा बनाई और कैसे बनाई यह तो नहीं कहा जा सकता लेकिन कहा जाता हैं पहली बार ब्रा का आविष्कार फ्रांस में ही हुआ था. (बांडीऊ ब्रा खास कर ये लड़कियों के लिए बनी हुई होती हैं)

पहली बार किसने ब्रा बनाई और कैसे बनाई

ब्रा के बारे में कोई इतिहास नहीं है लेकिन रोमन इतिहासकारों की बात की जाए तो पहले महिलाएं अपने स्तनों को छुपाने के लिए एक कपड़ा बांधती थी और उसके बाद उन कपड़ो को काटकर सिलकर बाँधने लगी और आगे का चलन शायद फ्रांस में हुआ और ‘brassiere’ को ब्रा कहा गया. (Bridal Bra or Corset : दुल्हन की सुंदरता बढ़ाने वाले विशेष ब्रा)

कब, कैसे हुआ ब्रा का अविष्कार?

कब, कैसे हुआ ब्रा का अविष्कार?

1889 में आज ही के दिन आधुनिक ब्रा का अविष्कार हुआ था। विक्टोरियन काल में महिलाएं कोर्सेट पहनती थीं जो एक तरह का जैकेट होता था, जिसे पीछे डोरियों से बहुत ज्यादा कस दिया जाता था।

यह इतना कसा हुआ होता था कि डॉक्टरों ने वॉर्निंग दी थी कि इसके कसे होने के कारण जी घबराना, पेट में गड़बड़ी, सांस फूलने जैसी परेशानी हो सकती है। लंदन के विज्ञान संग्रहालय में जो पुश अप ब्रा रखी हुई है वह 19वीं सदी की शुरुआत में बनाई गई थी। लाइफ पत्रिका के मुताबिक 30 मई 1889 को फ्रांस की हरमिनी काडोले ने आधुनिक ब्रा बनाई। उन्होंने दो पीस का अंडरगारमेंट बनाया था। जिसे कोर्सेलेट जॉर्ज नाम दिया गया।

इसके बाद 1960 के दशक में महिलावादियों यानी फेमिनिस्ट का झंडा बुलंद करने वाली महिलाओं ने ब्रा के खिलाफ आंदोलन शुरू किया। उनका दावा था कि ब्रा, कृत्रिम पलकें, बालों को घुंघराले करने वाले कर्लर, पुरुषवादी समाज का प्रतीक हैं और स्त्री के दमन का भी। इतना ही नहीं उनका कहना यह भी था कि इनसे महिलाएं सिर्फ सेक्स ऑब्जेक्ट बन जाती हैं। (कुछ प्रकार की ब्रा हैं स्वास्थ्य के लिए लाभदायक )

1 Comment

Leave a Comment