ashtagandha-kya-hai

अष्टगंध आठ गंधद्रव्यों के मिलाने से बना हुआ एक संयुक्त गंध

अष्टगंध क्या है – गंधाष्टक या अष्टगंध आठ गंधद्रव्यों के मिलाने से बना हुआ एक संयुक्त गंध है जो पूजा में चढ़ाने और यंत्रादि लिखने के काम में आता है।तंत्र के अनुसार भिन्न-भिन्न देवताओं के लिये भिन्न-भिन्न गंधाष्टक का विधान पाया जाता है। तंत्र में पंचदेव (गणेश, विष्णु, शिव, दुर्गा, सूर्य) प्रधान हैं, उन्हीं के अंतर्गत सब देवता माने गए हैं; अतः गंधाष्टक भी पाँच यही हैं।

शक्ति के लिये

चंदन, अगर, कपूर, चोर, कुंकुम, रोचन, जटामासी, कपि

विष्णु के लिये

चंदन, अगर, ह्रीवेर, कुट, कुंकुम, उशीर, जटामासी और मुर;

शिव के लिये

चंदन, अगर, कपूर, तमाल, जल, कुंकुम, कुशीद, कुष्ट;

गणेश के लिये

चंदन, चोर, अगर, मृग और मृगी का मद, कस्तूरी, कपूर; अथवा
चंदन, अगर, कपूर, रोचन, कुंकुम, मद, रक्तचंदन, ह्रीवेर;

सूर्य के लिये

जल, केसर, कुष्ठ, रक्तचंदन, चंदगन, उशीर, अगर, कपूर।

शास्त्रों में तीन प्रकार की अष्टगन्ध का वर्णन है, जोकि इस प्रकार है-

शारदातिलक के अनुसार अधोलिखति आठ पदार्थों को अष्टगन्ध के रूप में लिया जाता है-
चन्दन, अगर, कर्पूर, तमाल, जल, कंकुम, कुशीत, कुष्ठ।
यह अष्टगन्ध शैव सम्प्रदाय वालों को ही प्रिय होती है।

दूसरे प्रकार की अष्टगन्ध में अधोलिखित आठ पदार्थ होते हैं-

कुंकुम, अगर, कस्तुरी, चन्द्रभाग, त्रिपुरा, गोरोचन, तमाल, जल आदि।
यह अष्टगन्ध शाक्त व शैव दोनों सम्प्रदाय वालों को प्रिय है।

वैष्णव अष्टगन्ध के रूप में इन आठ पदार्थ को प्रिय मानते है-

चन्दन, अगर, ह्रीवेर, कुष्ठ, कुंकुम, सेव्यका, जटामांसी, मुर।
अन्य मत से अष्टगन्ध के रूप में निम्न आठ पदार्थों को भी मानते हैं-
अगर, तगर, केशर, गौरोचन, कस्तूरी, कुंकुम, लालचन्दन, सफेद चन्दन।

ये पदार्थ भली-भांति पिसे हुए, कपड़छान किए हुए, अग्नि द्वारा भस्म बनाए हुए और जल के साथ मिलाकर अच्छी तरह घुटे हुए होने चाहिए।

[content-egg module=Amazon template=grid]

अष्टगंध क्या है ? फायदे

अष्टगंध
कर्मकांड और यन्त्र लेखन में अष्टगंध के प्रयोग हर जगह मिलता है, परन्तु बहुत कम लोग ही जानते है अष्टगंध किसे कहते है ?
यह कितने प्रकार की होती है ?
कौन सी अष्टगंध को कहाँ प्रयोग करना है ?

सामान्यतः अष्टगंध के तीन प्रचलित प्रकार होते हैं

how to make ashtagandha at home

शारदा तिलक के अनुसार

चन्दनागुरुकर्पूरतमालजलकंकुमम् |
कुशीतं कुष्ठसंयुक्त शैव गंधाष्टकं विदुः ||

  1. चन्दन
  2. अगुरु
  3. कर्पूर
  4. तमाल
  5.  जल
  6.  कंकु
  7.  कुशीत
  8.  कुष्ट

उपरोक्त आठ पदार्थों को मिला कर जो अष्टगंध तैयार होता है, यह अष्टगंध शैव संप्रदाय (शिव पूजन ) वालों को ही प्रिय होता है |

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.