डिलीवरी के बाद माँ को क्या खाना चाहिए जो जच्चा-बच्चा दोनों के लिए फायदेमंद हो

3
38109
डिलीवरी के बाद माँ को क्या खाना चाहिए जो जच्चा-बच्चा दोनों के लिए फायदेमंद हो

After delivery the mother should eat to be beneficial for both the mother and infant :यह हर कोई जानता है कि जन्मे बच्चे के लिए मां का दूध कितना जरूरी होता है। मां का दूध बहुत पौष्टिक और प्राथमिक भोज्य पदार्थ होता है किसी भी नवजात के लिए। हर मां चाहती है कि उनका बच्चा हमेशा स्वस्थ रहे इसलिए वह अपना दूध पीलाती है, लेकिन यह स्वभाग्य हर मां को नहीं मिलता क्योंकि कभी-कभी पहली बार मां बनी महिलाओं को दूध की कमी के चलते स्तनपान कराने में दिक्कत आ जाती है और बच्चे का पेट नहीं भर पाता। आइए हम आपको बताते हैं कि इस समस्या से आप कैसे निदान पा सकते हैं। After Delivery Kya Khana chahiye

डिलीवरी के बाद माँ को क्या खाना चाहिए

वॉर्म कम्प्रेस का ले सहारा:Use warm compress

बहुत सी महिलाओं को यह दिक्कत स्तन में खून के प्रवाह में हुई कमी की वजह से होती है। यही वह वजह है जिससे दूध पूरा बनने के बाद भी नहीं उतर पाता है। वार्म कम्प्रेस की मदद से स्तन में खून का प्रवाह सही किया जा सकता है, जिससे स्तनपान कराने में बच्चे को दिक्कत नहीं होती। After Delivery Kya Khana chahiye गर्भावस्था में होने वाली उल्टी रोकने के घरेलू उपाय

वॉर्म कम्प्रेस के लिए क्या करें : What to do for the warm compress

  • महिला अपने स्तन पर हल्के हाथ से 5 मिनट मालिश करें।
  • इंतज़ाम करें एक साफ सूती कपड़े का, फिर उसे गरम पानी में भिगोकर छोड़ दें। बाद में पानी से निकालकर उसे अच्छे से निचोड़ लें।
  • अब आप स्तन पर गरम कपड़े से हल्के हाथों से मालिश करें।

वजन घटाने के लिए रात को सोने से पहले नहीं करे ये गलतियां !

वॉर्म कम्प्रेस से फायदा: Warm Compress benefit

दूध आसानी से उतरेगा और स्तन में दर्द भी नहीं होगा। प्रसव के बाद क्या खाये जुड़वा पुत्र पाने के लिए क्या करें

नीचे दिये चीजों को रोजाना खाना चाहिए। क्योंकि रोज़ यह खाएंगी तो बच्चे का भरेगा पेट After Delivery Kya Khana chahiye

  • ओटमील : नाश्ते में रोजाना ओटमील खाएं। मां के दूध में बढ़ोतरी जरूर होगी।
  • मेथी : कहते हैं मेथी दूध बनाने वाली ग्रंथियों के लिए एक अच्छी प्रेरक है। मेथी में फाइटोएस्ट्रोजन नामक पदार्थ पाया जाता है, जो कि ब्रेस्ट मिल्क को बढ़ाने का काम करती है।
  • सौंफ : सौंफ भी ब्रेस्ट मिल्क के उत्पादन में बहुत लाभकारी है। साथ ही यह बच्चों को पेट में होने वाले दर्द में फायदा करती है।
  • जीरा : शरीर में दूध के उत्पादन को बढ़ाने का काम जीरा भी करता है। यह खाना पचाने में मदद तो करता ही है, साथ ही कब्ज, एसिडिटी और सूजन को भी कम करता है। आपको बता दें कि जीरे में आयरन की भी भरपूर मात्रा होती है, जो प्रसूता को ऊर्जा देने का काम भी करती है।
  • दालचीनी : आयुर्वेद के अनुसार दालचीनी ब्रेस्ट मिल्क को बढ़ाने में बहुत कारगार है। नई-नई मां अगर दालचीनी का उपयोग करती है तो इससे ब्रेस्ट मिल्क का स्वाद अच्छा होता है, जो बच्चे को भी पसंद आता है।

Read More:

  1. स्तनों में माँ का दूध बढ़ाने के तरीके | Natural ways to increase breast milk
  2. 10 निकला हुआ पेट अंदर करने के तरीके नुस्खे
  3. पेप्टिक अल्सर या आमाशय व्रण रोग पेट के छाले अम्लपित्त के लक्षण और उपचार

3 COMMENTS

    • आसानी से गैस बनाने वाले आहार आप के तकलीफ को बढ़ा सकते हैं। आप अपने भोजन में ऐसे आहार सम्मलित कर सकती हैं जिनमें प्रचुर मात्रा में फाइबर हो।

      फाइबर युक्त आहार आप को कब्ज (constipation) की समस्या से बचाएंगे। ये आहार ऐसे होने चाहिए जिनमें पोषण भी भरपूर मात्रा में हो जैसे की पनीर (cottage cheese), सूप, दही, वगैरह।

      कच्ची दही खाने से आप के पेट में सही bacteria का संतुलन बनेगा और ख़राब bacteria कम होंगे। डब्बा बंद दही से कोई फायदा नहीं है। डेरी उत्पाद की दुकानों में मिलने वाला दही ही प्रयोग करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here