Home / Bitcoin / बिटकॉइन का इतिहास और बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी की पूरी जानकारी ?

बिटकॉइन का इतिहास और बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी की पूरी जानकारी ?

बिटकॉइन का इतिहास क्रिप्टो करेंसी की पूरी जानकारी – बिटकॉइन एक क्रिप्टो करेंसी है।  बिटकॉइन का इस्तेमाल आजकल बहुत ज्यादा बढ़ गया है। यह आम करेंसी से अलग होती है। और इसके लेन-देन को गुप्त रखा जा सकता है। हालांकि यह करेंसी कई देशों में अभी भी गैरकानूनी है। फिर भी लोग इस करेंसी में लेन देन करना पसंद करते हैं। बहुत से लोग बिटकॉइन की ट्रेडिंग और बिटकॉइन की माइनिंग करते हैं। इस पोस्ट में जानेंगे। कि Bitcoin क्या है? और कैसे काम करती है? और बिटक्वाइन को कहां से खरीद सकते हैं? या बिटकॉइन को कैसे खरीदें? बिटकॉइन का इतिहास क्या है?

बिटकॉइन क्या है? What is Bitcoin?

[table id=34 /] यह करेंसी एक डिजिटल और बिल्कुल नई मुद्रा है। बिटकॉइन का आविष्कार 2009 में एक अज्ञात व्यक्ति सतोषी नाको मोतो के उपनाम पर बनाई थी। इस करेंसी में लेनदेन के लिए किन्ही दो व्यक्तियों की आवश्यकता नहीं होती। यानी कोई बैंक नहीं। कोई लेन-देन शुल्क नहीं। इसलिए बहुत से लोग और व्यापारियों ने इसको स्वीकार किया है। और इसमें आपको अपना असली नाम देने की भी कोई जरुरत नहीं। आप इसके जरिए वेब होस्टिंग सेवाएं, पिज़्ज़ा या ऑनलाइन खरीदारी सकते हैं। किसी को एक जगह से दूसरे जगह पैसे ट्रांसफर भी कर सकते हैं।

बिटकॉइन का इतिहास, रोचक तथ्य। Bitcoin Interesting Facts

  1. यह 3 जनवरी 200 9 को शुरू हुआ।यह बड़े कंप्यूटर नेटवर्क पर आपसी भुगतान के लिए एन्क्रिप्शन द्वारा संरक्षित एक नई मुद्रा है।
  2. यह दुनिया की पहली पूरी तरह से खुली भुगतान व्यवस्था है
  3. बिटकॉइन दुनिया की सबसे महंगी करंसी बन गई है।
  4. इस डिजिटल करंसी को डिजिटल वॉलेट में रखा जाता है।
  5. जटिल कम्‍प्‍यूटर एल्गोरिथम्स और कम्‍प्‍यूटर पावर से इस मुद्रा का निर्माण किया जाता है जिसे बिटकॉइन माइनिंग कहते हैं।
  6. गोल्‍डमैन साक्‍स और न्‍यूयॉर्क स्‍टॉक एक्‍सचेंज तक ने इसे बेहद तेज और कुशल तकनीक कहकर इसकी तारीफ की है।
  7.  दुनिया में 1 करोड़ से ज्यादा की Bitcoin हैं, जिनकी 60 हजार करोड़ रूपए से जायदा हैं।

Bitcoin कैसे काम करती है?

बिटकॉइन की ट्रेडिंग Bitcoin trading

what is bitcoin in hindi, बिटकॉइन का इतिहास

बिटकॉइन का इतिहास- Bitcoin एक वर्चुअल यानी की आभासी मुद्रा है अन्य करेंसी कि तरह इस करेंसी का कोई भौतिक स्वरूप नहीं है। यह डिजिटल करेंसी है। इस करेंसी को ना तो आप देख सकते हैं, और ना ही छू सकते हैं। यह केवल इलेक्ट्रॉनिक स्टोर होती है। अगर किसी के पास इलेक्ट्रॉनिक Bitcoin है। तो अन्य सामान्य मुद्रा की तरह ही इससे भी सामान को खरीदा जा सकता है। वर्तमान समय में Bitcoin काफी पॉपुलर हो रहा है। Bitcoin करेंसी का आविष्कार सतोषी नाकोमोतो नाम के एक इंजीनियर ने 2008 में किया था और 2009 में ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में इसे जारी किया। तब से लेकर अब तक इस में बहुत ज्यादा लोग जुड़ चुके हैं। लोग बिटकॉइन की ट्रेडिंग करते हैं। जैसे कि स्टॉक एक्सचेंज में डॉलर, रुपए, यूरोप, की सेल परचेस होती है। उसी प्रकार से लोग इस करेंसी को खरीदते और बेचते हैं। उन्हें कम कीमत पर खरीद कर और ऊंचे दामों पर बेच देते हैं। इसके लिए इसमें एक एक्सचेंज भी है। लेकिन उसका कोई औपचारिक रूप नहीं है।

बिटकॉइन के नुकसान

आजकल यह ब्‍लैक मनी, हवाला और आतंकी गतिविधियों में ज्‍यादा इस्‍तेमाल किए जाने की वजह से सुर्खियों में है। इसके बढ़ते इस्‍तेमाल ने सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ा दी है।.

About Pooja

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *