फाइनेंसियल

एक सितंबर से नई गाड़ी का बीमा कराना हो जाएगा महंगा

नए वाहन खरीदने वालों को शनिवार से जेब ज्यादा हल्की करनी पड़ेगी. इसकी वजह बीमा नियामक इरडा का निर्देश है. नई कारों सहित दूसरी गाड़ियों के लिए अब आपको अनिवार्य रूप से तीन साल का बीमा खरीदना होगा. इसी तरह नए दोपहिया वाहनों के लिए कंपनियां पांच साल की पॉलिसी बेचेंगी. यह नियम एक सितंबर, 2018 से लागू हो जाएगा. अभी तक गाड़ियों का बीमा एक साल के लिए होता था. ग्राहकों को हर साल बीमा को रिन्यू कराना पड़ता था.

नए वाहनों पर लंबी अवधि का बीमा लेने से प्रीमियम के रूप में जाने वाली एकमुश्त राशि बढ़ जाएगी. लेकिन, आपको सहूलियत यह होगी कि हर साल बीमा रिन्यू कराने की झंझट से मुक्ति मिलेगी.

इसे भी पढ़ें : इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की 1 सितंबर से शुरुआत, मिलेगा ज्यादा ब्याज

वैसे, छोटी कारों (1,000 सीसी से कम) और दोपहिया वाहनों (75 सीसी से कम) के खरीदारों के लिए अच्छी खबर यह है कि उन्हें लंबी अवधि की पॉलिसी की पेशकश कम दामों में की जाएगी. थर्ड- पार्टी प्रीमियम में हर साल होने वाली बढ़ोतरी से वे बच जाएंगे.

सालाना प्रीमियम के भुगतान का चलन बंद होने के बाद 1500 सीसी से ज्यादा की नर्इ कार के लिए शुरुआती इंश्योरेंस कवर कम से कम 24,305 रुपये में पड़ेगा. अभी यह 7,890 रुपये में मिलता है. 350 सीसी इंजन से ज्यादा की बाइक के लिए खरीदार को 13,024 रुपये देने होंगे. अभी वह इसके लिए 2,323 रुपये देते हैं. इंश्योरेंस प्रीमियम अलग-अलग मॉडल में अलग-अलग हो सकते हैं.

20 जुलार्इ को सुप्रीम कोर्ट ने इस बारे में आदेश दिया था. शीर्ष न्यायालय ने नर्इ कारों के लिए तीन साल और दोपहिया वाहनों के लिए पांच साल का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कवर अनिवार्य बनाने को कहा था. एक सितंबर से बेची जाने वाली सभी पॉलिसी पर यह आदेश लागू होगा. सुप्रीम कोर्ट ने बीमा कंपनियों को लंबी अवधि के थर्ड पार्टी बीमा की पेशकश करने का आदेश इसलिए दिया था क्योंकि इनकी पहुंच कम है. यह अलग बात है कि सभी वाहनों के लिए थर्ड पार्टी बीमा इंश्योरेंस लेना अनिवार्य है.

इसे भी पढ़ें : Voter ID card apply: ऑनलाइन कैसे बनवायें या अपडेट करें

बढ़ेगी बीमा की पहुंच
वाहन के पुराने हो जाने पर कई लोग हर साल उसका बीमा कराने से बचते हैं. ICICI लोंबार्ड जनरल इंश्योरेंस में अंडरराइटिंग के हेड संजय दत्त कहते हैं कि इस कदम के चलते थर्ड पार्टी बीमा इंश्योरेंस की पहुंच बढ़ेगी. इससे ज्यादा वाहन कवर होंगे

MORTOR INSURANCE

सड़क दुर्घटना पर सरकारी रिपोर्ट के अनुसार, हर दिन इस तरह की 1,374 घटनाएं होती हैं. इनमें 400 लोग अपनी जान गंवाते हैं. इंश्योरेंस क्लेम की कोई कानूनी अवधि नहीं है. केस दुर्घटना वाले क्षेत्र में या दावेदार के रहने के स्थान पर फाइल किए जा सकते हैं.

पॉलिसी की अवधि के दौरान बीमा कंपनी या बीमाधारक थर्ड पार्टी कवर को कैंसल नहीं कर सकता है. यह दो इंश्योरेंस हो जाने या वाहन की बिक्री या ट्रांसफर होने की स्थिति में ही संभव है.

About the author

inhindi

Leave a Comment