Jyotish

अश्विनी नक्षत्र में जो जन्म लेते है वो रहस्यमयी होते हैं। – Ashvini Nakshatra

Ashvini Nakshatra – ज्योतिषशास्त्र के अनुसार कहा गया है कि नक्षत्रों की टोटल संख्या 27 है विशेष परिस्थिति में अभिजीत को लेकर नक्षत्रों की संख्या 28 हो जाती है। गोचरवश नक्षत्र दिवस बदलता रहता है। ज्योतिष मत के अनुसार हर नक्षत्र का अपना प्रभाव होता है। जिस नक्षत्र में व्यक्ति का जन्म होता है उसके अनुरूप उसका व्यक्तित्व, व्यवहार और आचरण होता है। नक्षत्रों में सबसे पहले अश्विनी नक्षत्र होता है। अश्विनी नक्षत्र में जिनका जन्म होता है वो कैसे होते हैं आइये इसे जानते है :

अश्विनी नक्षत्र कब आता है

ऋग्वेद के अनुसार 01.50.2 तथा 6.67.6 में जिस लोक का कभी क्षय नहीं होता उसे नक्षत्र कहा गया है, यजुर्वेद में नक्षत्रों को चन्द्रमा की अप्सरा कहा गया है। निरयन सूर्य 13-14 अप्रैल को अश्विनी नक्षत्र मनें प्रवेश करता है, सम्पूर्ण अश्विनी नक्षत्र के चरण मेष राशि में होते हैं। अश्विन मास की पूर्णिमा तिथि को चन्द्रमा अश्विनी नक्षत्र में रहता है।

अश्विनी नक्षत्र का स्वामी केतु

अश्विनी नक्षत्र का स्वामी केतु होता है। इस नक्षत्र में चन्द्रमा के होने से जातक को आभूषण से प्रेम रहता है। जातक सुन्दर तथा सौभाग्यशाली होता है।

विभूषणेत्सुर्मतिमान् शशांके। दक्षस्सरूप सुभगोश्विनीषु।।

ज्योतिष शास्त्र में अश्विनी नक्षत्र को गण्डमूल नक्षत्रों के मंडल में रखा गया है इस नक्षत्र का स्वामी केतु होता है। इस नक्षत्र में उत्पन्न होने वाले व्यक्ति बहुत ही उर्जावान होते हैं। ये हमेशा एक्टिव रहना पसंद करते हैं इनको खाली बैठना अच्छा नहीं लगता, ये हमेशा कुछ न कुछ करते रहना पसंद करते हैं। अश्विनी नक्षत्र के जातक उच्च महत्वाकांक्षा से भरे होते हैं, छोटे-मोटे काम से इन्हे संतुष्टि नहीं मिलती , इनको लोगो को बड़े और महत्वपूर्ण काम करने में मज़ा आता है।

अश्विनी नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति

अश्विनी नक्षत्र में जो जन्म लेते है वो रहस्यमयी होते हैं। इनको समझ पाना आम आदमी के बस की बात नहीं होती है। या यु कहे की काफी मुश्किल होता है। ये कब क्या करेंगे इसका अनुमान लगाना भी कठिन होता है। ये जो भी हासिल करने की सोचते हैं उसे पाने के लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं डरते। ये इस प्रकार के कार्य कर जाते हैं जिसके बारे में कोई अंदाज़ा भी नहीं लगा पाता।

इनके स्वभाव और व्यक्तित्व की एक बड़ी कमी है कि इन लोगो में उतावलापन बहुत होता है। ये किसी भी बात पर बहुत जल्दी गुस्सा हो जाते हैं। इनके व्यक्तित्व की एक बड़ी कमी यह भी है कि ये काम को करने से पहले उसके बारे में नहीं सोचते बल्कि बाद में उस पर विचार करते हैं। जो भी इनसे शत्रुता व दुश्मनी करता है उनसे बदला लेने में ये पीछे नहीं हटते, अपने दुश्मनों को पराजित करना इन्हें अच्छी तरह आता है।

अश्विनी नक्षत्र के जातक को दबाव या ताकत से वश में नहीं किया जा सकता। ये प्रेम एवं अपनत्व से ही वश में आते हैं। अश्विनी नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति उत्तम एवं आदर्श मित्र होते हैं। ये छल कपट से दूर रहते हैं तथा सच्ची मित्रता निभाने वाले होते हैं, ये अपने मित्र के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहते हैं। ये यूं तो बाहर से सख्त दिखते हैं परंतु भीतर से कोमल हृदय के होते हैं। इन व्यक्तियों का बचपन संघर्ष में गुजरता है। ये अपनी धुन के पक्के होते हैं, जो भी तय कर लेते हैं उसे पूरा करके दम लेते हैं।

READ MORE…

About the author

inhindi

हम science, technology और Internet से संबंधित चीजों से संबंधित जानकारी शेयर करते हैं। Facebook, Twitter, Instagram पर हमें Follow करें, ताकि आपको ट्रेंडिंग टॉपिक पर Latest Updates मिलते हैं।

Leave a Comment